MP में PFI के नेताओं को एनकाउंटर का डर, वकील ने कोर्ट में कहा देश में गाड़ी पलट जाती है

भोपाल. मध्यप्रदेश एटीएस ने शुक्रवार को इंदौर और उज्जैन से गिरफ्तार किए गए पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया (PFI) के 4 नेताओं को NIA कोर्ट भोपाल में पेश किया। चारों आरोपियों को कोर्ट ने 30 सितंबर तक ATS को रिमांड पर सौंप दिया। ATS ने रिमांड के लिए दलील दी कि आरोपियों से पूछताछ करनी है, सबूत जुटाने हैं। इनके पास से इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस, देश विरोधी दस्तावेज बरामद हुए हैं। ATS के वकील ने कहा- आरोपियों का मकसद समुदाय विशेष के युवाओं को भड़का कर देश में कट्टरता पैदा करना था। भारत में इस्लामिक शरिया कानून कायम करने के एजेंडे के तहत यह अभियान में जुटे थे। आरोपियों की तरफ से वरिष्ठ वकील अतहर अली ने पक्ष रखा।

आरोपियों को सीक्रेट जगह पर रखेगी एटीएस
इसके बाद विशेष न्यायाधीश रघुवीर प्रसाद पटेल ने चारों आरोपियों को 30 सितंबर तक ATS को रिमांड पर सौंपने का आदेश दिया। सूत्रों की मानें तो ATS उन्हें सीक्रेट जगह पर रख सकती है। जरूरत पड़ने पर एनआईए इन्हें ट्रांजिट रिमांड पर दिल्ली भी ले जा सकती है।

इन आरोपियों को कोर्ट में पेश किया गया
अब्दुल करीम बेकरीवाला पिता अब्दुल रहीम अब्बासी, प्रदेश अध्यक्ष, इंदौर।
अब्दुल खालिद पिता अब्दुल कयूम, जनरल सेक्रेटरी, इंदौर।
मोहम्मद जावेद पिता मोहम्मद साबिर, प्रदेश कोषाध्यक्ष, इंदौर।
जमील शेख पिता अब्दुल अजीज, प्रदेश सचिव उज्जैन।

बिजली गुल होने से आधे घंटे तक सुनवाई प्रभावित
आरोपियों को कोर्ट में भारी सुरक्षा के बीच लाया गया। शुक्रवार सुबह करीब 11 बजे ATS आरोपियों को ट्रेवलर में लेकर कोर्ट पहुंची। उन्हें सीधे NIA कोर्ट ले जाया गया। कागजी कार्रवाई चल ही रही थी कि अचानक कोर्ट रूम की बिजली चली गई। इससे करीब आधे घंटे तक सुनवाई प्रभावित रही। बिजली आने के बाद सुनवाई फिर से शुरू हो सकी। इस दौरान आरोपियों के चेहरे पर नकाब डालकर ATS की टीम उन्हें बिठाए रखी। उनके आसपास भी किसी को आने-जाने की इजाजत नहीं थी। उनका पक्ष रखने कई वकील पहुंचे, लेकिन आरोपी सबको मना करते रहे। वह कहते रहे कि हमने वकील कर लिया है। आपकी जरूरत नहीं है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.