थानेदार की वर्दी पहन कर ठगी करने वाले बदमाष गिरफ्तार

ग्वालियर। पुलिस द्वारा धोखाधड़ी करने वाले बदमाषों एवं ठगो पर प्रभावी कार्यवाही की जा रही है। इस कार्यवाही के दौरान 23 सितम्बर को एसएसपी को सूचना प्राप्त हुई कि थाना ठाटीपुर के अपराध में फरार ठग थाटीपुर क्षेत्रान्तर्गत चम्बल कॉलोनी के पास किसी व्यक्ति के साथ ठगी करने की नियत से पुलिस बर्दी के लाल जूते पहनकर खड़ा हुआ है। प्रभारी एएसपी -पूर्व/अपराध श्रीमती मृगाखी डेका को क्राईम ब्रांच एवं थाना ठाटीपुर पुलिस बल की संयुक्त टीम बनाकर उक्त ठग की गिरफ्तारी हेतु निर्देषित किया गया।

क्राईम ब्रांच एवं थाना ठाटीपुर पुलिस बल की संयुक्त टीम बनाकर मुखबिर सूचना पर कार्यवाही करने हेतु भेजा गया। पुलिस टीम को बताये स्थान पर एक व्यक्ति पुलिस वर्दी वाले लाल जूते पहने हुए खड़ा दिखाई दिया। पुलिस टीम को अपनी ओर आता देखकर उक्त संदिग्ध व्यक्ति ने भागने का प्रयास किया। परन्तु पुलिस टीम द्वारा उक्त व्यक्ति को घेराबंदी कर पकड़ लिया गया। पकड़े गये व्यक्ति से पूछताछ करने पर उसने बताया कि उसके द्वारा पुलिस थानेदार की वर्दी पहनकर बहुत से लोगों के साथ ठगी की गई है उसने यह भी बताया कि उसके द्वारा झांसी(उ0प्र0) में भी इस प्रकार की ठगी की बारदातों को अंजाम दिया गया है।

ज्ञात हो कि 6 फररी को फरियादी रामेन्द्र शर्मा पुत्र अषोक शर्मा निवासी बलवंत नगर, ग्वालियर ने थाना थाटीपुर आकर रिपोर्ट की थी कि मैं अपने दोस्त के साथ मयूर मार्केट स्थित जिम में व्यायाम करने जाया करता था। वहां पर एक व्यक्ति प्रतिदिन पुलिस थानेदार की वर्दी पहनकर कसरत करने आया करता था। कुछ दिनों बाद उक्त व्यक्ति द्वारा मुझसे अपनी दोस्त की पत्नि के इलाज के लिये 06 हजार रूपये उधार मांगे गये, काफी समय से साथ कसरत करने की वजह से विष्वास में आकर उसके एकाउंट में 06 हजार रूपये ट्रांसफर कर दिये। कुछ दिनों बाद उक्त व्यक्ति द्वारा मेरे दोस्त षिवम से भी इस व्यक्ति द्वारा पिता के इलाज के नाम पर 03 हजार रूपये ले लिये गये। हम दोनों के द्वारा जब रूपये वापस मांगे तो उसके द्वारा कॉफ्रेंस पर एक व्यक्ति से बात कराई जाकर हम को बिरला हॉस्पीटल के पास बुलाया गया। जब हम लोग बिरला हॉस्पीटल के पास पंहुचे तो वहां खड़े व्यक्ति द्वारा हमसे हमारी मोटर सायकिल छीन ली और बोला कि जिस व्यक्ति ने आपको मेरे पास भेजा है उसने मुझसे भी रूपये उधार लिये थे मैं तुम्हारी मोटर सायकिल रख रहा हूं पहले मेरे रूपये दिलवाओं तभी बाइक वापस करूंगा। अपने साथ ठगी होना ज्ञात होने पर मैने थाने में षिकायत की।

Leave a Reply

Your email address will not be published.