मप्र के राजनीतिक गलियारों में चर्चा, कैलाश और नरोत्तम के बीच बंद कमरे 1 घंटे चली हुई चर्चा

भोपाल. भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय और प्रदेश के गृहमंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्रा के बीच बंद कमरे में 1 घंटे की गुफ्तगू हुई। दोनों नेताओं की इस मुलाकात को लेकर पार्टी में हलचल जरूर हुई। इसकी वजह बंगाल चुनाव के बाद कैलाश विजयवर्गीय को अस्थाई तौर पर कोई नहीं जिम्मेदारी नहीं मिलना और प्रदेश में सक्रिय होना है। इस मुलाकात पर कैलाश विजयवर्गीय बोले-जहां कोई नेता एक -दूसरे से मिलते हैं तो वहां राजनीतिक चर्चा होना स्वभाविक है। लेकिन इस मुलाकात में कोई नया समीकरण नहीं बन रहा है। मैं 6 माह बाद भोपाल आया हूं मित्रों से मिलने, वहीं कांग्रेस ने कहा कि मध्यप्रदेश में खेल चालू है।
यह बैठक समाप्त होने के बाद गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा जरूर कैमरे के सामने आये और उन्होंने कहा है कि कैलाश जी बंगाल चुनाव में प्रभारी थे और मैं सहायक था। वह मेरे अच्छे मित्र है। वह मेरे निवेदन पर चाय पर आये थे। यह सहज मुलाकात थी। इसे किसी राजनीतिक चश्मे से नहीं देखा जाना चाहिये। दूसरी ओर पार्टी के नेताओं की माने तो अगले माह केन्द्रीय मंत्रिमण्डल का विस्तार होने का अनुमान है। इसलिये विजयवर्गीय सक्रिय है।
अच्छी ट्यूनिंग है कैलाश और नरोत्तम के बीच
जानकारों का मानन हैकि प्रदेश की राजनीति में कैलाश विजयवर्गीय और नरोत्तम मिश्रा के बीच अच्छी ट्यूनिंग है। दोनों शिवराज कैबिनेट में एक-एक साथ काम भी कर चुके हैं। कैलाश लम्बे समय से केन्द्रीय राजनीति में शिफ्ट हो गये हैं। हालांकि बीच-बीच में वह मध्यप्रदेश की राजनीति में सक्रिय हो जाते हैं। भोपाल यात्रा के दौरान कैलाश विजयवर्गीय गुफ्तगू के लिये नरोत्तम मिश्रा के पास जरूर जाते हैं।
पेनड्राइव की कमलनाथ से पूछिये
मप्र में हनीट्रेप के मामले में सियासत तेज हो गयी है और इसको लेकर भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष एवं पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ के पेन ड्राइव के संबंध में कुछ नहीं बोले-उन्होंने सिर्फ इतना कहा है कि कमलनाथ से पूछिये उनके पास पेनड्राइव है या नहीं।

शिवराज कैबिनेट के विस्तार के दौरान सक्रिय हुए थे विजयवर्गीय
पार्टी सूत्रों का कहना है कि शिवराज सरकार के चौथे कार्यकाल के दौरान पहले कैबिनेट विस्तार से पहले विजयवर्गीय भोपाल सक्रिय हुए थे। वे 26 जून 2020 को देर रात नरोत्तम मिश्रा के घर पहुंचे थे। इसके अगले ही दिन नरोत्तम मिश्रा ने प्रदेश के संगठन महामंत्री सुहास भगत के साथ बैठक की थी।

इससे पहले भोपाल में दोनों नेताओं की 8 दिसंबर को हुई थी मुलाकात
प्रदेश के गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा का कद पार्टी में बढ़ा है। पश्चिम बंगाल जैसे महत्वपूर्ण राज्य में पार्टी ने उन्हें बड़ी जिम्मेदारी दी गई थी। उन्हें 48 विधानसभा सीटों का प्रभारी बनाया गया था। इससे पहले विजयवर्गीय 8 दिसंबर 2020 को भोपाल आए थे। इस दौरान भी उनकी गृह मंत्री के साथ बंद कमरे में बैठक हुई थी।

Leave a Reply

Your email address will not be published.