कोरोना वायरस-ग्वालियर में सुबह पुलिस ने बन्द कराई दुकानें, शिवपुरी में सब्जी बेचने वालों पर लगाया प्रतिबंध, केवल दूध की सप्लाई

ग्वालियर/शिवपुरी. ग्वालियर और शिवपुरी में कोरोना वायरस से संक्रमित एक एक मरीज मिलने के बाद जिला प्रशासन ने सख्ती दिखाना शुरू कर दिया है। दोनों शहरों में कर्फ्यू लागू हैं। इधर, दोनों संक्रमित की हालत स्थिर है। ग्वालियर में मिले संक्रमित ने लोगों से माफी मांगी है। कोरोना पॉजिटिव मरीज मिलने के बाद राज्य सरकार ने गजराराजा मेडीकल कॉलेज की डीन डॉ. सरोज कोठारी को लापरवाही बरतने के आरोप के चलते हटा दिया गया है। उनकी जगह डॉ. अशोक मिश्रा को कमान सौंपी गयी थी लेकिन डीन की कमान डॉ एसएन अयंगर के हाथों में हैं।
ग्वालियर का मरीज खजुराहो से लौटा था। उसने डीन को बताया था कि खजुराहो में वो किसी विदेशी पर्यटक के संपर्क में आया था। इधरए भोपाल में मिली कोरोना पॉजिटव युवती के संपर्क में भिंड का एक युवक दो दिन तक रहा। इसके बाद वो भिंड लौट आया। यहां वो दिन से घर से बाहर नहीं निकल रहा था। उसने घर से बाहर नहीं निकलने का कारण अपने दोस्तों को बताया था। इसके बाद पुलिस ने उसके खिलाफ मामला दर्ज कर अस्पताल में भर्ती कराया है।

ग्वालियर में बुधवार सुबह शहर में कुछ दुकानें खुलीए जिन्हें प्रशासन ने बंद करा दिया। ग्रामीण क्षेत्रों से सब्जी लेकर आ रहे किसानों को भी पुलिस ने शहर में नहीं घुसने दिया है। दूध की सप्लाई जरूर हुई है। मेडिकल की दुकानें भी खुली हैं। जिला प्रशासन से जुड़े सूत्रों का कहना है कि बुधवार दिनभर ऐसी ही सख्ती रहेगी। केंद्र ने जो नई गाइडलाइन जारी की है उसको गुरुवार सुबह से लागू किया जाएगा। किरानाए सब्जीए दूध और मेडिकल की दुकानें खुली रहेंगी। इमरजेंसी सेवाएं चालू रहेंगी। ज्यादा जरूरी होने पर लोगों को पास भी बनाकर दिए जाएंगे।
शिवपुरी पुलिस ने दिखाई सख्ती
दुबई से लौटे इस युवक को कोरोना वायर से संक्रमित पाये जाने पर जिला प्रशासन और पुलिस ने सख्ती दिखानी शुरू कर दी है। बुधवार की सुबह शहर में सिर्फ दूध की सप्लाई की गयी । डेयरियों पर दूध लेने आने वालों को दूध नहीं मिल सका, क्योंकि जिला प्रशासन ने आज डेयरी नहीं खुलने दी। शहर में आज सब्जी बेचने आने वालों पर भी प्रतिबंध लगा दिया । शिवपुरी में कर्फ्यू सिर्फ शहरी इलाके में लगाया गया है। बाकी स्थानों पर टोटल लॉकडाउन हें।
अभी नहीं बनी संक्रमित लोगों की सूची
कोरोनावायरस का संक्रमित मरीज 21 मार्च को अस्पताल से भागकर घर आ गया था। 24 मार्च को उसकी रिपोर्ट पॉजिटिव आई। इस बीच वह घर पर ही रहा। बताया जा रहा है कि इस दौरान उसने घर में ना ही मास्क लगाया और ना ही कोई सुरक्षात्मक कदम उठाए। संक्रमित युवक और उसके परिजन आस.पड़ोस के लोगों से मिलते रहे। 24 घंटे निकल जाने के बाद भी स्वास्थ्य विभाग ऐसे लोगों की सूची नहीं बना पाया हैए जिन लोगों से युवक मिला है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *