जेयू में फर्जी मार्कशीट कांड में उच्च शिक्षा विभाग को भेजा प्रस्ताव, उप कुलसचिव सहित अन्य अधिकारियों का निलंबन किया जा सकता है

ग्वालियर. जीवाजी विश्वविद्यालय में बीएससी चतुर्थ वर्ष परीक्षा जून 2019 में की फर्जी मार्कशीट तैयार करने के मामले में अब अधिकारियों पर कार्रवाई की तैयारी चल रही है। शीघ्र ही उप कुलसचिव सहित अन्य अधिकारियों का निलंबन किया जा सकता है। जेयू ने उच्च शिक्षा विभाग को अधिकारियों पर कार्रवाई का प्रस्ताव भेज दिया है। कार्यपरिषद सदस्यों के तेवरों के चलते जेयू प्रबंधन को कार्रवाई करनी पड़ रही है। यहां बता दें कि छोटे कर्मचारियों पर कार्रवाई को लेकर कार्यपरिषद सदस्यों ने जेयू प्रबंधन पर पक्षपात का आरोप लगाया था।
ईसी मेंबर के विरोध में आने के बाद तीन सदस्यीय कमेटी बनाई
जीवाजी विश्वविद्यालय के कार्यपरिषद सदस्य अनूप अग्रवाल ने बीएससी नर्सिंग चतुर्थ वर्ष परीक्षा जून 2019 की फर्जी मार्कशीटें बनाने की शिकायत कुलपति से की थी। ईसी मेंबर ने आरोप लगाया था कि चार्ट में विद्यार्थी फेल थे लेकिन अधिकारियों ने पास की मार्कशीट बनाकर दे दी। ईसी मेंबर के विरोध में आने के बाद तीन सदस्यीय कमेटी बनाई गई। चार्ट व मार्कशीटों का मिलान किया गया जिसमें एक बड़ा फर्जीवाड़ा सामने आया। जून 2019 की परीक्षा के उन छात्रों को पास की मार्कशीटें बनाकर दे दी जो फेल थे। इसके बाद एक तीन सदस्यीय कमेटी बनाई गई थी। इस कमेटी की रिपोर्ट पर गत दिवस दो कर्मचारियों को निलंबित कर दिया गया था। परीक्षा नियंत्रक व सहायक कुलसचिव गोपनीय का प्रभार छीन लिया था। जिन अधिकारियों को बचाने के आरोप लगा रहे है उन पर कार्रवाई हो सकती है।
दोषी को बख्शा नहीं जाएगी, प्रस्ताव उच्च शिक्षा विभाग को भेजा- केशव सिंह, पीआरओ जेयू
बीएससी नर्सिंग के मामले में दोषी अधिकारी को बख्शा नहीं जाएगा। रिपोर्ट के साथ कार्रवाई का प्रस्ताव उच्च शिक्षा विभाग को भेजा गया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *