संजय धूपर ने स्वर्गीय मोहम्मद साहेब की ४१ वी पुण्यतिथि पर 30 गीतों की प्रस्तुति दी

ग्वालियर दीनदयाल माल की संगीतमयी 4 घंटे की संगीत संध्या में रफ़ी साहेब फेम संजय धूपर के द्वारा रफ़ी साहेब के 30 से जयादा गीतों की प्रस्तुति दी गयी इनमे 10 से ज्यादा युगल गीतों की प्रस्तुति दी गयी जिसमे संजय धूपर का साथ ग्वालियर की उभरती नन्ही गायिका कुमारी हर्षिता कुशवाहा ने दिया । कार्यक्रम की शरुआत रफ़ी साहेब के गाये भजन सुख के सब साथी दुःख में न कोय के साथ किया । संजय धूपर ने रफ़ी साहेब की गायकी के हर रंग चुलबुलेए रोमांटीकए देश प्रेम,  ग़ज़ल,  गंभीर व् कव्वाली सभी तरह के गीत गाये ।
संजय धूपर ने रफ़ी साहेब की गायकी को हूबहू उतार कर उपस्थितः जनमानस का दिल जीत लिया। आपने रफ़ी साहेब के रंग और नूर की आवाजए चाहूंगा मैं तुझे साँझ सवेरे,  तुझको पुकारे मेरा प्यार,  तुम मुझे यू भुला न दोगे,  पर्दा है पर्दा,  दिल के झरोखे में तुझको बिठा कर,  बदन पे सितारे,  शिरडी वाले साई बाबा के साथ अन्य 30 से जयादा गीतों की प्रस्तुति दी,  युगल गीतों में अभी न जाओ छोड़ कर,  ष्बेखुदी में सनम,  ये पर्दा हटा दो,  आज कल तेरे मेरे प्यार के चर्चे,  जैसे कि गीतों में हर्षिता कुशवाहा ने बहुभि साथ दिया और उपस्थित जनमानस का मन मोह लिया ।

इस अवसर पर लायंस क्लब ग्वालियर  गालव के पदाधिकारी और सदस्य बढ़ी संख्या में उपस्थित थे। लायंस क्लब के पदाधिराइयो ने संजय धूपर व् हर्षिता को इस अवसर पर स्मृति चिन्ह भेट क्र सम्मान दिया। कार्यक्रम शाम 5 बजे से शरू हो क़र रात्रि 9 बजे तक चला ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *