कांग्रेस में गद्दार कौन-सभापति चुनाव में क्रॉस वोटिंग करने वाले पार्षदों को पकड़ेगा जांच दल

ग्वालियर. नगरनिगम परिषद में सभापति का चुनाव 1 वोट से हारने के मामले को गंभीरता से लिया गया है। कांग्रेस की तरफ से क्रॉस वोटिंग हुई है। इसकी जांच के लिये पूर्व मुख्यमंत्री व पीसीसी चीफ कमलनाथ ने 2 सदस्यीय जांचदल गठित किया है। यह जांच दल ग्वालियर आकर पड़ताल करेगा कि कांग्रेस से गद्दारी किसने की है। जांच दल में पूर्व मंत्री मुकेश नायक व महेन्द्रसिंह चौहान है।

क्या है पूरा मामला

ग्वालियर मेयर का चुनाव कांग्रेस की डॉ. शोभा सिकरवार के जीतने के बाद कांग्रेस को पूरी आशा थी कि नगर निगम परिषद भी उनकी होगी। सभापति के चुनाव में कांग्रेस विधायक व मेयर पति डॉ. सतीश सिकरवार, कांग्रेस के जिलाध्यक्ष देवेन्द्र शर्मा व वरिष्ठ नेता सुनील शर्मा ने पूरी ताकत लगा दी थी। 66 में से कांग्रेस के पार्षद 25 पर सीट जीते थे। इसके बाद भी सारे निर्दलीयों को अपनी ओर खींचने के बाद बाद कांग्रेस 32 पार्षद तक के आंकड़े पर पहुंच गया था। जबकि भाजपा के पास 34 पार्षद थे। यही बहुमत का आंकड़ा था। कांग्रेस ने कुछ भाजपाइयों को अपनी ओर वोटिंग के लिए तैयार कर दिया था, लेकिन कांग्रेस की ओर से भी क्रॉस वोटिंग होने से मामला बिगड़ गया और कांग्रेस सिर्फ एक वोट से सभापति बनाने में चूक गई थी। हालांकि भाजपा से भी 4 लोगों ने क्रॉस वोटिंग की है और पार्टी को पता है, लेकिन एक वोट से सभापति अपने नाम करने के बाद भाजपा ने चुप्पी साध ली है।
कांग्रेस में गद्दार कौन जांच कमेटी करेगी जांच
नगरनिगम परिषद में सभापति चुनाव में क्रॉस वोटिंग को पूर्व मुख्यमंत्री व प्रदेशाध्यक्ष कमलनाथ गंभीरता से ले रहे हैं। जिला कांग्रेस कमेटी ने पहले ही अपनी रिपोर्ट तैयार कर ली है और प्रदेशाध्यक्ष को भेज दी है। क्रॉस वोटिंग पर पार्षद पति संजय यादव व हेवरन कंषाना पहले ही शहर जिला कांग्रेस अध्यक्ष देवेन्द्र शर्मा को अपनी सफाई दे चुके हैं। अब प्रदेश स्तर पर बनी 2 सदस्यीय जांच दल इस मामले में जांच करेगा। जांच दल में पूर्व मंत्री मुकेश नायक व प्रदेश संगठन के नेता महेन्द्र सिंह चौहान शामिल है। जांच दल एक या दो दिन में ग्वालियर आकर जांच शुरू करेगा। लेकिन जांच दल बनने से क्रॉस वोटिंग करने वाले पार्षदों पर खतरा मंडराने लगा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.