उज्जैन ने अयोध्या का रिकॉर्ड तोड़ा, 10 मिनट में 14 हजार लोगों ने जलाए 11.71 लाख दीये

उज्जैन. भगवान महाकाल की नगरी उज्जैन ने अयोध्या का रिकॉर्ड तोड़ दिया। 10 मिनट में 11 लाख 71 हजार 78 दीये जलाए गए। इन्हें 14 हजार लोगों ने जलाया। इससे पहले दिवाली पर अयोध्या में 9 लाख दीये जलाए गए थे। यहां गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड की 5 सदस्यीय टीम भी मौजूद रही। कलेक्टर आशीष सिंह ने बताया कि गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड की टीम ने इसकी घोषणा भी कर दी।

सायरन बजने के बाद स्वयंसेवकों ने दीपक जलाना शुरू कर दिया
महाशिवरात्रि के मौके पर उज्जैन नगरी फाल्गुन में दिवाली सी जगमग हुई। यहां शिव ज्योति अर्पणम् महोत्सव हुआ। सायरन बजने के बाद स्वयंसेवकों ने दीपक जलाना शुरू कर दिया। सबसे पहले मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने पत्नी साधना सिंह के साथ 11 दीपक जलाए। यहां 5 ड्रोन से निगरानी की गई। राम घाट से लेकर भूखी माता घाट तक लोगों की भीड़ जमा रही। उज्जैन में आतिशबाजी भी की गई। सीएम शिवराज सिंह, उनकी पत्नी साधना सिंह और मंत्री मोहन यादव ने नौका विहार भी किया।

रात 8 बजे तक 4.6 लाख लोगों ने दर्शन किए
इससे पहले सुबह 3 बजे से ही महाकाल मंदिर के पट खोले गए थे। सबसे पहले भस्म आरती हुई थी। इसमें बड़ी संख्या में श्रद्धालु शामिल हुए। पट खुलते ही चार धाम मंदिर पर श्रद्धालुओं में भगदड़ मच गई थी। इस दौरान पुलिस के मेटल डिटेक्टर और कुछ बैरिकेड्स गिर गए थे। कलेक्टर आशीष सिंह ने बताया कि भस्म आरती के बाद पट खोले गए, तब यह स्थिति बनी थी। यह स्थिति ज्यादा देर नहीं रही, पुलिस-प्रशासन ने व्यवस्था संभाल ली थी। महाकाल मंदिर में रात 8 बजे तक 4.6 लाख लोगों ने दर्शन कर लिए थे।

भस्म आरती में सबसे पहले भगवान महाकाल को पंडे पुजारियों ने जल चढ़ाया। इसके बाद पंचामृत अभिषेक पूजन में दूध, दही, घी, शक्कर और फलों के रस से अभिषेक किया गया। भांग से अद्भुत श्रृंगार किया गया था। सुबह 5.30 बजे से आम भक्तों ने दर्शन करने शुरू कर दिए थे।

देशभर से श्रद्धालु उज्जैन पहुंचे
बारह ज्योतिर्लिंगों में से एक उज्जैन का महाकाल मंदिर दक्षिणमुखी है साथ ही भस्म आरती की परम्परा के चलते इसका महत्व अत्यधिक बढ़ जाता है। देशभर से श्रद्धालु उज्जैन पहुंचे। देर रात 2 बजे से मंदिर के बाहर लाइन लगनी शुरू हो गई थी। अब 2 मार्च को रात्रि की शयन आरती के बाद पट बंद होंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.