MiG-29 से रोमियो हेलीकॉप्टर तक INS Vikrant पर होंगे तैनात, यह घातक फाइटर प्लेन थर-थर कांपेंगे दुश्मन

नाम वहीं, ध्येय वाक्य वही, पेनेंट नंबर भी... लेकिन नया विक्रांत ज्यादा ताकतवर और घातक है.
नई दिल्ली. पीएम नरेन्द्र मोदी ने शुक्रवार को केरल के कोचीन में भारतीय नौसेना का आईएएसी विक्रांत (INS Vikrant)  समर्पित कर दिया है। इस विमानवाहक पोत पर 30 से 35 लड़ाकू विमान तैनात किये जा सकते है। आईएनएस विक्रांत की लंबाई 262 मीटर और पोत का वजन लगभग 45000 टन है। इस पोत की ऊंचाई लगभग 59 मीटर यानी 15 मंजिला के बराबर है। अगर इसकी चौड़ाई की बात करें तो यह 62 मीटर चौड़ा है। समंदर के इस बाहुबली पर  10Kmaov और MiG-29K  के सहित कई अन्य लड़ाकू विमान तैनात किये जायेंगे है।

पुराने INS Vikrant से दोगुने से ज्यादा बड़ा है स्वदेशी IAC Vikrant. (फोटोः Indian Navy)

MiG-29K 
इस युद्धपोत पर सबसे घातक मिग-29 मिकोयान को तैनात किया जायेगा। यह जेट कई युद्ध में भारत के लिये ब्रह्म्ास्त्र साबित हुआ है। इसमें 3500 किलो ईधन आता और यह 17.2 मीटर लम्बा है। यह 2400 किलोमीटर प्रतिघंटे की रफ्तार से उड़ सकता है। यह 18000 मीटर की ऊंचाई तक जा सकता है और इसकी रेंज 2100 किलोमीटर हे। इसमें बम, रॉकेट और मिसाइल या उनका मिश्रण फिट किया जा सकता है।

ब्रिटेन के HMS Hercules से बनाया गया था भारतीय नौसेना का पुराना बाहुबली INS Vikrant. (फोटोः Indian Navy)

Kmaov KA-27
यह हेलीकॉप्टर 4 हजार किलो का वजन लेकर उड़ सकता है। इसे 3 लोग उड़ाते हे। इसकी रफ्तार 270 किमी प्रतिघंट हैं और रेंज 980 किमी है। इसमेंगनपॉड्स, म्यूनिशन डिस्पेंसर्स, रॉकेट, बम, मशीनगन जैसी चीजें लगा सकते है।

1971 के युद्ध के समय INS Vikrant के चारों तरफ सॉर्टी लेता सी-किंग हेलिकॉप्टर. (फोटोः Indian Navy)

Romeo Helicopters
330 किमी प्रतिघंटे की रफ्तार से उड़ने सकने वाला यह विमान 64.8 फीट लम्बा और 17.23 फीट चौड़ा है। 10,433 किलो का वजन लेकर उड़ सकता है। इसमें 5 लोगों के बैठने की क्षमता है। इसमें दर्जनों सेंसर्स और रडार हैं। जो दुश्मन की हर हरकत के बारे में बता देते हैं। इसमें हेलफायर मिसाइल भी तैनात की जा सकती है।

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.