MP -नहीं रूक रहा बांध से पानी का रिसाव, बांध के टूटने का खतरा बढ़ा, 18 गांव खाली कराये, सेना और वायुसेना हैं तैयार

धार/खरगोन. मध्यप्रदेश के धार जिले में कारम नदी (नर्मदा की एक सहायक नदी) पर बन रहे कोठेरा बांध से जारी पानी का रिसाब बढ़ने से दहशत पसरी हुई ह। अब पानी से भरे इस बांध के टूटने का खतरा बढ़ गया है। इसके मद्देनजर प्रशासन ने बांध के निचले क्षेत्र में बसें 18 गांवों को एहतियातन खाली करा लिया है और लोगों को सुरक्षित स्थानों पर बने राहत शिविरों में भेज दिया है। उधर, प्रशासन और जल संसाधन विभाग ने रिसाव रोकने के लिये कार्यवाही शुरू कर दी है और साथ ही 2 हेलीकॉप्टर और सेना को तैयार रखा गया है।
धार जिले की धर्मपुरी तहसील में कारम मध्यम सिंचाई परियोजना के तहत इस बांध का निर्माण हो रहा है लेकिन पिछले दिनों से रूक-रूककर भारी वर्षा के चलते इस निर्माणाधीन बांध के लबालब भर जाने से रिसाव और मिट्टी का दरकना शुरू हो गया है। राज्य गृह विभाग के अपर मुख्य सचिव राजेश राजौरा ने बताया कि बांध की डाउन स्ट्रीम की मिट्टी स्लिप होने से शुक्रवार को सुबह खतरे के हालात पैदा हो गये थे। इस बांध की लम्बाई 590 मीटर की ऊंचाई 52 मीटर है। वहीं मौजूदा समय में 1.5 करोड घन मीटर (MCM) पानी इस बांध में भरा हुआ है।
2 जिलों के 18 गांव खाली
गृहसचिव राजेश राजौरा ने बताया कि बांध के टूटने के खतरे को देखते हुए एहतियात धार जिले के 12 गांव और खरगोन जिले के 6 गांवों यानी कुल 18 गांवों को खाली कराके लोगों को सुरक्षित स्थानों पर राहत शिविरों में भेज दिया गया है।
तैयार है 2 हेलीकॉप्टर
वहीं, राष्ट्रीय आपदा मोचन बल (NDRF ) की टीम, राज्य आपदा मोचन (SDRF) धार और इन्दौर की टीम और पड़ोस के थानों का पुलिस बल बचाव कार्य में होमगार्ड तथा राजस्व विभाग के अमले के साथ लगा हुआ है और साथ ही वायुसेना के 2 हेलीकॉप्टर और सेना की एक कंपनी को तैयार रखा गया है ताकि जरूरत पड़ने पर उन्हें तुरंत भेजा जा सके।

Leave a Reply

Your email address will not be published.