सुपर स्पेशलिस्ट हॉस्पीटल कोविड वार्ड में आगजनी की घटना की उच्च स्तरीय जांच कराये. सतीशसिंह सिकरबार

ग्वालियर. 21 नबंबर को दोपहर 2 बजे सुपर स्पेशलिस्ट हॉस्पीटल के कोविड वार्ड में अचनाक आग लग गई। इस घटना में 2 मरीज गंभीर रूप से झुलस गये, जब इस घटना की जानकारी मुझे मिली तो मैं मौके पर पहुॅचा। लगभग 1 घण्टे मैं अस्पताल में मौजूद रहा । इस दौरान अस्पताल प्रबंधन के किसी भी जिम्मेदार व्यक्ति ने मुझे स्थिति से अवगत कराना आवष्यक नहीं समझा। जो कि पूर्ण रूप से गलत है, मैं इसकी निंदा करता हूॅ और आने वाले समय में इस तरह की लापरवाही और जनप्रतिनिधि की अनदेखी करना बर्दास्त नहीं की जायेगी। इस पत्र के माध्यम से मैं मांग करता हूॅ कि सुपर स्पेशलिस्ट वार्ड अभी नया बनकर तैयार हुआ है।
कुछ व्यवस्थाओं की शीघ्र जांच कराये
जिस कम्पनी द्वारा लाईट फिंटिग की गई उसकी गुणवता की जांच कराई जाये क्योंकि अभी नया लाईट फिंटिग का कार्य हुआ है फिर भी इस मौसम में शॉट-सर्किट से आग लगना चिंता का विषय है। इस कार्य के दौरान घटिया सामग्री का इस्तेमाल किया जाना प्रतीत होता है।
जिस कम्पनी द्वारा फायर सिस्टम लगाया गया है, उस सिस्टम की जांच कराया जाना चाहिए। क्योंकि आग लगने के दौरान फायर सिस्टम को चालू किया गया, लेकिन वह चालू नहीं हुआ। इस कारण दो मरीज बुरी तरह झुलस गये। इससे प्रतीत होता है कि फायर सिस्टम भी घटिया स्तर का लगाया गया है। अगर इसे दुरस्त नहीं किया गया तो भविष्यमें कोई बडी दुघर्टना घटित हो सकती है। इस घटना को लेकर मौके पर मौजूद जनप्रतिनिधियों ने कई बार संबिधत डॉक्टरों से मोबाईल पर सम्पर्क किया गया मगर किसी ने भी मोबाईल नहीं उठाया। इस घोर लापरवाही के लिये संबधित डॉक्टरों के खिलाक कार्यवाही करना सुनिष्चित की जाये।
कोविड-19 से पीडित मरीज इस दौरान भर्ती होने के लिए अस्पताल पहुॅचा उसे लगभग ढेड़ घण्टे के बाद जब भर्ती किया गया तब मेरे द्वारा अस्पताल अधीक्षक से बात की गई। इससे स्पश्ट है कि अस्पताल में कोविड-19 के आने वाले मरीजों को आसानी से भर्ती नहीं कराया जा रहा है। अतः आपसे आग्रह है कि कोविड-19 से पीडित मरीजों को तत्काल भर्ती कराये जाने की व्यवस्था सुनिष्चित की जाये।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *