तेजस दुश्मन को मिनटों में धूल चटाने में हैं सक्षम, फायटर जेट की रफ्तार 2222 किमी प्रतिघंटा है, 83 फायटर जेेट रही केन्द्र सरकार

नई दिल्ली. केन्द्र सरकार ने भारतीय वायुसेना की मारक क्षमता बढ़ाने के लिये देश में ही बने 83 तेजस लड़ाकू विमानों की खरीद को मंजूरी दे दी है। स्वदेशी रक्षा खरीद के तहत हिन्दुस्तान एरोनॉटिक्स लिमिटेड ससे 48 हजार करोड़ रूपये की लागत से 73 लड़ाकू तेजस विमान और 10 ट्रेनर विमान खरीदे जायेंगे। तेजस चौथी पीढ़ी के सुपरसोनिक लड़ाकू विमानों के समूह मेंसबसे हल्का और सबसे छोटा विमान है।

Will be a game changer

तेजस फायटर प्लेन की खरीद को मंजूरी मिलने के बाद रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने ट्वीट कर कहा है कि पीएम नरेन्द्र मोदी की अध्यक्षता में सीसीएस ने इस सबसे बड़े ऐतिहासिक स्वदेशी रक्षा सौदे पर मुहर लगा दी है। तेजस की ताकत वायुसेना में मजबूत करेगी और रक्षाक्षेत्र में आत्मनिर्भर बनने के लक्ष्य के लिये भी यह गेम चेंजर साबित होगा।

Able to wipe out enemies in minutes

तेजस में एक साथ 9 प्रकार के हथियार लोड और फरार किये जा सकते हैं। तेजस में एंटीशिप मिसाइल, बम और रॉकेट भी लगाये जा सकते हैं। तेजस लड़ाकू विमान मिनटों में दुश्मन को धूल चटाने में सक्षम हैं और इसकी तैनाती के बाद दुश्मन देश में खौफ (डर) बढ़ जायेगा।

Can target up to 40-50 KM

तेजस पर हवा से हवा में, हवा से धरती और हवा से पानी पर हमला करने वाले हथियार लोड़ किये जा सकते हैं। तेजस की खासियत है कि यह कम जगह से भी उड़ान भर सकता हैं।Jammer-protection technique is installed

तेजस विमान एक सुपरसोनिक फायटर जेट है जो एक बार में 23 हजार किमी की दूरी तय करता है तेजस की खासियत है कि इसमें हवा में ईधन भरा जा सकता है।

Flight to altitude of 54 thousand KM

तेजस में जैमर-प्रॉटेक्शन तकनीक है ताकि दुश्मन की सीमा के लगभग उसका कम्युनिकेशन बन्द न हो। तेजस को 42 प्रतिशत कार्बन फायटर 43 प्रतिशत एल्यूमीनियम एलॉय और टायटेनियम से बनाया गया है।

Speed upto 2222 kmph

तेजस फायटर प्लेन की रफ्तार 2222 किमीप्रति घंटे है और यह अपने साथ 13500 किग्रा वनज ले जा सकता है तेजस 43.5 फीट लम्बा है और 14.9 फीट ऊंचा है और यह हल्का और आकार में भी छोटा है।

Atal Bihari Vajpayee gave name

अगस्त 1983 में हल्का युद्धक विमान यानी कि लाईट कॉम्बैट एयरक्राफ्ट प्रोजेक्ट को मंजूरी दे दी गयी थी और इसके 18 वर्ष के बाद 4 जनवरी 2001 को तेजस ने पहली उड़ान भरी थी और वर्ष 2003 में भारत के पूर्व पीएम अटलबिहारी बाजपेई ने इस फायटर जेट को तेजस का नाम दिया था।

Name chosen from 20 sanskrit words

तेजस फायटर जेट का यह नाम संस्कृत भाषा के 20 नामों में से चुना गया था। संस्कृत में तेजस शब्द का मतलब होता है कि असीम शक्ति यानी सबसे शक्तिशाली है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *