तानसेन समारोह-2022 समारोह की सभी व्यवस्थायें उच्च कोटि की हों – संभाग आयुक्त

ग्वालियर संगीत सिरोमणि तानसेन की स्मृति में आयोजित होने जा रहे 98वे “तानसेन समारोह” की तैयारियां जारी हैं। संभाग आयुक्त दीपक सिंह ने शुक्रवार को अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक डी श्रीनिवास वर्मा के साथ तानसेन सामरोह आयोजन स्थल तानसेन समाधि परिसर एवं इंटक मैदान पहुँचकर तैयारियों का जायजा लिया। इस अवसर पर उन्होंने आयोजन से जुड़े सभी संबंधित अधिकारियों को निर्देश दिए कि तानसेन समारोह की सभी व्यवस्थायें उच्चकोटि की हों। व्यवस्थायें ऐसी हों, जिससे संगीत रसिक अच्छे वातावरण में बैठकर संगीत सभाओं का आनंद ले सकें।
संभाग आयुक्त ने कहा कि हजीरा स्थित तानसेन समाधि परिसर में आयोजित होने वाले मुख्य समारोह में संगीत रसिकों के लिये बैठने की पर्याप्त व्यवस्था रहे। मुख्य समारोह के पण्डाल के अलावा सामने की ओर लगाए जाने वाले अतिरिक्त पण्डाल में एलईडी स्क्रीन भी लगवाई जाए, जिससे संगीत रसिकों की संख्या बढ़ने पर स्क्रीन के माध्यम से भी रसिक तानसेन समारोह की सभाओं का आनंद ले सकें।
इस अवसर पर अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक ने यह भी निर्देश दिए कि मुख्य समारोह आयोजन स्थल तानसेन समाधि परिसर एवं इंटक मैदान पर आयोजित होने वाले उप शास्त्रीय संगीत सभा “गमक” में आने वाले संगीत रसिकों के लिये पार्किंग की बेहतर से बेहतर व्यवस्था करें। पार्किंग व्यवस्था ऐसी हो, जिससे रसिक कम से कम दूरी तय कर समारोह स्थल पर पहुँच सकें।
भारतीय शास्त्रीय संगीत के क्षेत्र में देश व दुनिया का सर्वाधिक प्रतिष्ठित महोत्सव “तानसेन समारोह” संगीतधानी ग्वालियर में 18 से 23 दिसम्बर तक आयोजित होगा। 18 दिसम्बर को सायंकाल 7 बजे इंटक मैदान में समारोह के तहत पूर्वरंग “गमक” का आयोजन होगा। जिसमें सुविख्यात सूफी गायक हंसराज हंस की प्रस्तुति होगी। “गमक” से पहले सायंकाल 5 बजे से गूजरी महल किलागेट से भव्य लोक कला यात्रा निकलेगी। जो अपनी कला का प्रदर्शन करते हुए गमक आयोजन स्थल इंटक मैदान पहुँचेगी। 19 दिसम्बर को प्रात:काल तानसेन समाधि पर परंपरागत ढंग से शहनाई वादन, हरिकथा एवं मिलाद गायन होगा। इस दिन सायंकाल औपचारिक रूप से समारोह का शुभारंभ एवं अलंकरण समारोह आयोजित होगा।
गमक की तीन सभाओं सहित कुल 13 संगीत सभयें होंगीं
शताब्दी समारोह के मद्देनजर इस साल के तानसेन समारोह का विस्तार किया गया है। समारोह के तहत ग्वालियर के अलावा शिवपुरी व दतिया में भी गमक की सभायें होंगीं। गमक की पहली सभा 16 दिसम्बर को शिवपुरी में, दूसरी सभा 17 दिसंबर को दतिया में एवं तीसरी सभा ग्वालियर में आयोजित होगी। समारोह के तहत 22 दिसंबर को एक सभा मुरैना जिले के अंतर्गत ग्राम पड़ावली के समीप स्थित ऐतिहासिक स्थल बटेश्वर मंदिर प्रांगण में सजेगी। यह सभा शास्त्रीय संगीत की रहेगी। मुख्य समारोह तानसेन समाधि स्थल पर 19 दिसम्बर की शाम पहली सभा होगी। इसके बाद हर दिन प्रात:काल 10 बजे प्रात:कालीन सभा एवं सायंकाल 6 बजे से सायंकालीन सभा होगी। तानसेन समाधि परिसर में 7 संगीत सभायें और समारोह के आखिरी दिन यानि 23 दिसम्बर को प्रात:कालीन सभा सुर सम्राट की जन्मस्थली बेहट में और अंतिम सभा सायंकाल ग्वालियर दुर्ग स्थित गूजरी महल परिसर में सजेगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published.