Bastar Dasahara- बस्तर का दशहरा इस वर्ष और भी खास होगा, तस्वीरों में देखें प्लान और तैयारी

बस्तर. अपनी विलक्षण रीतिरिवाजों के चलते बस्तर का दशहरा विश्वभर में विख्यात हैं। इसमें शामिल होने के लिये देश विदेश से लाखों लोग बस्तर आते हैं। लेकिन पिछले 2 साल से कोरोना की वजह आयोजन काफी सीमित हो गया था। हालांकि इस बार हालात सामान्य होने पर इसकी तैयारियां जोरों से शुरू हो गयी है।


75 दिनों तक चलने वाला विश्व प्रसिद्ध बस्तर दशहरा इस बार बेहद धूमधाम से मनाया जायेगा। कोरोना महामारी की वजह से पिछले वर्षो में दशहरे को काफी सीमित कर दिया गया था।


कोरोना के वजह से ऐसे में दूर-दूर से दशहरे में शामिल होने जगदलपुर आने वाले लोगों की संख्या में भारी कमी देखी गयी थी। इस पर बार पहले की तरह ही बस्तर का दशहरा अपने पूरे वैभव को बिखेरता नजर आयेगा। इसके लिये तैयारियां जोरों पर है।


बस्तर दशहरे के सफल आयोजन के लिये सोमवार को बस्तर दशहरा समिति की विशेष बैठक का आयोजन किया गया। इस आयोजन में सांसद, कलेक्टर, बस्तर, दशहरा समिति के सदस्य, राज परिवार के सदस्य, माझी, चालाकी, मेम्बर आदि मौजूद रहे। बैठक में सभी ने सर्वसम्मति से दशहरे के वैभव पूर्ण आयोजन के लिये सहमति प्रदान की।


बस्तर सांसद एवं दशहरा समिति के अध्यक्ष दीपक बैज ने बताया कि इस वर्ष बस्तर दशहरे के सफल आयोजन के लिये शासन से 86 लाख रूपये की मांग की जा रही है।


आपको बता दें कि बस्तर का दशहरा 75 दिनों तक मनाया जाता है। जिसमें 12 महत्वपूर्ण रस्मों के साथ-साथ दर्जनों छोटे -बड़े विधान होते हैं। यहां यह पर्व सामाजिक सरोकार का जीता जागता उदाहरण भी है। बस्तर दशहरा के आयोजन में 20 हजार लोगों की प्रत्यक्ष भागीदारी होती है औरे लाखों लोग इसे देखने के लिये आते हैं।

बस्तर के दशहरे में रावण वध की परंपरा से अलग यह पर्व यहां बस्तर की आराध्य देवी मां दंतेश्वरी के सम्मान के रूप् में मनाया जाता है। बस्तर दशहरे की शुरूआत 600 वर्ष पूर्व हुई थी। आज भी यह परंपरा यहां निर्बाध रूप से जारी है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.