मीडिया पर भड़के कमलनाथ, स्टेट हैंगर पर शिवराज और कमलनाथ के बीच हुई मुलाकात, सीएम शिवराज लेकिन दिग्विजय सिंह से नहीं मिले तो धरना पर बैठे

भोपाल. सीएम शिवराजसिंह चौहान से स्टेट हैंगर पर हुई मुलाकात के बाद कमलनाथ मीडिया पर भड़क गये। शुक्रवार को मीडिया ने उनसे पूछा कि शिवराज उनसे मिल लिये, लेकिन दिग्विजय सिंह को मिलने के लिये समय नहीं दिया। इस पर गुस्सा होते हुए कमलनाथ ने कहा है कि शिवराज ने उन्हें समय नहीं दिया। बल्कि वह सिर्फ स्टेट हैंगर पर मुलाकात हुई थी। पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने कहा है कि हमें लिखित अपॉइंटमेंट चाहिये। टेलीफोनिक अपॉइंटमेंट को मुख्यमंत्री सीएम तवज्जो नहीं देते।
कमलनाथ ने कहा है कि मैं 2 दिवसीय दौरे के बाद छिंदवाड़ा से भोपाल लौटा। उसी वक्त शिवराज जी भी देवास दौरे के तहत स्टेट हैंगर पर पहुंचे थे। अचानक से स्टेट हैंगर पर हमारी मुलाकात हुई। इसमें सीएम शिवराज ने मुझे बताया कि दिग्विजय सिंह धरने पर बैठ रहे हैं। मुझे उन्हें समय देने में परहेज नहीं। मैंने भी उन्हें कहा है कि इस संबंध में दिग्विजय सिंह से बात करूंगा।
दिग्विजय सिंह डेढ़ माह से शिवराज से समय मांग रहे है
धरनास्थल पर दिग्विजय सिंह ने सच्चाई बतायी। वह तो पिछले डेढ़ माह से मिलने का शिवराज से समय मांग रहे हैं। आज का समय दिया था। अचानक से निरस्त कर दिया। कांग्रेस का पूरा समर्थन डूब प्रभावितों के साथ है। उनके हर संघर्ष में  हम उनके साथ हैं। दोपहर लगभग 2 बजे सीएम के प्रमुख सचिव के फोन पर चर्चा के बाद दिग्विजय सिंह ने धरना समाप्त कर दिया।

धरने में कमलनाथ भी पहुंचे।
सीएम हाउस से 1 किमी पहले दिग्विजय सिंह को रोका
इससे पहले सीएम हाउस से लगभग 1 किमी पहले ही पुलिस ने दिग्विजय सिंह को रोक दिया गया और पुलिस ने यहां बैरिकेडिंग कर रखी थी। दिग्विजय सिंह यहां समर्थकों के साथ दूरदर्शन केन्द्र के सामने ही धरने पर बैठ गये। पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ भी पहुंचे। टेम और सुठालिया बांध के विस्थापन के मुद्दे पर पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने सीएम हाउस के सामने धरने का ऐलान किया था।  दिग्विजय ने टेम और सुठालिया बांध मुद्दे पर बात करने के लिए मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को पत्र लिखकर समय मांगा था। मुख्यमंत्री कार्यालय की ओर से उन्हें CM से मुलाकात के लिए 21 जनवरी को सवा 11 बजे का समय निर्धारित किए जाने की सूचना दी गई थी, जिसे गुरुवार को निरस्त कर दिया गया। इसे लेकर दिग्विजय ने धरना देने का ऐलान किया है। अब मुख्यमंत्री शिवराज ने दिग्विजय को 23 जनवरी दोपहर 12 बजे मुलाकात का समय दिया है  पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ भी डूब प्रभावितों की समस्याओं के निराकरण के लिए दिग्विजय सिंह के धरने में शामिल हुए। कमलनाथ ने कहा कि कांग्रेस डूब प्रभावितों के साथ है।

शुक्रवार सुबह दिग्विजय के बंगले के बाहर पुलिस।

राजगढ़ की सुठालिया, भोपाल और विदिशा जिले की सीमा टेम सिंचाई परियोजना से डूब में आने वाले गांव और विस्थापितों के मुआवजा को लेकर सियासत होने लगी है। दोनों परियोजना से पांच हजार हेक्टेयर से अधिक भूमि डूब में आ रही है। डेढ़ हजार से ज्यादा परिवार विस्थापित होंगे। सरकार इन्हें कलेक्टर गाइडलाइन के अनुसार मुआवजा दे रही है। प्रभावित इसे कम बताकर विरोध कर रहे हैं।इनके समर्थन में दिग्विजय सिंह भी आ गए हैं।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *