मुरैना में 8 गिरफ्तार और एक फरार, अमोलपुरा गांव में वन अमले की गोली से हुई थी ग्रामीण की मौत

ग्वालियर. मुरैना के अम्बाह तहसील के अमोलपुरा गांव में 13 जून 2021 को वन अमले की गोली से ग्रामीण महावीरसिंह तोमर की मौत हो गयी थी। इस मामले में घटना में शामिल वन विभाग के 9 लोगों को आरोपी बनाया गया था। एक आरोपी को शुक्रवार को तथा एक आरोपी को आज शनिवार को गिरफ्तार किया गया था। अभी तक इस मामले में 8 लोगों को गिरफ्तारी नगरा थाना पुलिस द्वारा कर ली गयी है। एक अभी भी आरोपी फरार चल रहा है। मामले की मजिस्ट्रयल जांच चल रही है। इस मामले में फरियादी पक्ष व 6 आरोपियों के बयान हो चुके हैं। बाकी कके बयाना होना शेष हैं।
यहां पर आपको बता दें कि इस मामले में ग्रामीणों ने यह कहा था कि फॉरेस्ट वाले चम्बल की रेत से भरी ट्रैक्टर ट्रॉली का पीछा करते हुए आये थे और अंधाधुध फायरिंग की थी। इस फायरिंग में ग्रामीण महावीरसिंह तोमर के गोलियां लग गयी थी। जिससे उनकी घटनास्थल पर ही मौत हो गयी थी। दूसरी ओर वन अमले का यह भी कहना था कि उन्हें ग्रामीणों ने चारों तरफ से घेर लिया था। उनके हथियार छुड़ाने लगे तो इस बीच गोली चल गयी और महावीरसिंह तोमर को लग गयी।

हमले के दौरान क्षतिग्रस्त वन अमले की गाड़ी

यह था पूरा मामला
घटना वाले दिन 13 जून को फॉरेस्ट विभाग का अमला प्रतिदिन की तरफ रुटीन गश्त कर रहा था। उसी समय अमले को चंबल के अवैध रेत से भरी ट्रैक्टर ट्राली जाती दिखी। अमले ने ट्रैक्टर ट्राली वाले को रुकने का कहा। अपने को पकड़ा जाता देख ट्राली चालक ने ट्रैक्टर ट्राली दौड़ा दी और भगाने लगा। वन अमले ने बोलेरो वाहन से उसका पीछा किया। ट्रैक्टर चालक कोई दूसरा रास्ता न देख बचने के लिए अमोलपुरा गांव में ट्रैक्टर घुसाकर ले गया। वन अमला भी पीछे-पीछे उसने पास गया तथा अमले के सदस्यों ने ट्रैक्टर के टायर में गोली मार दी जिससे ट्रैक्टर रुक गया। उसके बाद वह उसे छोड़कर भाग गए। गांववालों का यह कहना था कि वन अमले ने अंधाधुंध फायरिंग की जिससे सुबह के वक्त अपने जानवरों की सानी करके महावीर सिंह तोमर गांव के बाहर जा रहे थे। ‌वन अमले द्वारा की गई फायरिंग में चली गोलियां महावीर सिंह तोमर के लग गई जिससे उनकी मौके पर ही मौत हो गई। इस घटना से आक्रोशित ग्रामीणों ने वन अमले पर हमला बोल दिया। इस पर अमले के सदस्य अपना वाहन छोड़कर पैदल ही भाग निकले। वन अमले के भागने के बाद ग्रामीणों ने अपना सारा गुस्सा गाड़ी पर निकाला और बोलेरो को क्षतिग्रस्त कर दिया था।

यह आरोपी कर चुके सरेंडर
पुलिस के सामने इस घटना के जिम्मेदार आठ आरोपियों ने सरेंडर कर दिया है। इनमें 1-आशीष उपाध्याय, 2-जीवेश शर्मा(कल, शुक्रवार को गिरफ्तार हुआ है) 3-विश्वनाथ चौहान 4- मनीष त्यागी 5-प्रमोद सिंह तोमर (सबसे पहले गिरफ्तार हुुआ था) 6-अवधेश कुशवाह, 7-हेमंत राठौर 8-अनुबंधित वाहन चालक, सत्यप्रकाश शर्मा को आज शनिवार को गिरफ्तार किया है। मन्नी भदौरिया अभी फरार चल रहा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *