ग्वालियर में जश्ने ईद मिलादुन्नबी के दिनशहर में निकले जुलूस, सड़कों पर युवाओं ने हैंडमेड नकली बंदूक, रॉकेट लॉन्चर से पटाखे किए फायर

ग्वालियर. पैगम्बर हजरत मोहम्मद साहब का यौमे विलादत (जन्मदिन) जश्ने ईद मिलादुन्नबी मंगलवार को मनाया गया। शहर के विभिन्न क्षेत्रों से कौमी सद्भावना जुलूस निकाले गए और जलसों के आयोजन किए गए। इस मौके को खास बनाने के लिए मस्जिदों में भी तैयारी की गई थी पर सबसे ज्यादा आकर्षक सड़कों पर निकलने वाले जुलूस रहे हैं। कोविड के चलते जुलूस की इजाजत तो नहीं थी, लेकिन निकाले गए। पुलिस लगातार निगरानी कर रही थी। बाड़ा से दौलतगंज होते हुए फूलबाग आ रहे एक जुलूस में आगे चल रहे युवा हाथ में हैंड मेड लोहे की बनी पटाखा गन लिए थे। जिनसे लगातार पटाखे फायर करते हुए नजर आए। जब पटाखे चलाए जा रहे थे तो लग रहा था जैसे असली बंदूक चला रहे हों।

ईद मिलादुन्नबी के मौके पर मंगलवार को सुबह से भव्य जुलूस निकाले गए। शहर के अलग-अलग 12 क्षेत्रों से जुलूस बाजारांे में होते हुए फूलबाग मोती मस्जिद पहुंचे हैं। निकाले गए जुलूस का भव्य स्वागत कर अन्य समुदाय के लोगों ने कौमी एकता एवं सद्भावना की मिसाल पेश की। हालांकि शहर के अलग-अलग इलाकों से निकाले गए जुलूस में दोपाहिया वाहन पर प्रशासन ने प्रतिबंध लगाया था। हालांकि कुछ जुलूस में इक्का-दुक्का दो पहिया वाहन देखे गए। ज्यादातर जुलूस में लोग पैदल ही नजर आए। लगातार पुलिस भी जुलूस के रास्तों पर मुश्तैद दिखाई दी है।

शहर में जगह-जगह लगा जाम
यातायात व्यवस्था दुरुस्त बनी रहे और इसके लिए पुलिस ने बीते रोज ही होमवर्क कर लिया था। ट्रैफिक पुलिस ने यातायात व्यवस्था को दुरुस्त करने के लिए मंगलवार को कई मार्गों को वैकल्पिक मार्ग के रूप में उपयोग करते हुए वाहनों को निकाला लेकिन इसके बाद भी यातायात व्यवस्था जुलूसों के चलते पूरी तरह से चरमरा गई। अवाड़पुरा, कंपू ईदगाह, शंकरपुर, सिगौरा, सागरताल से निकले जुलूसों के चलते शहर के कंपू, शिंदे की छावनी, कटीघाटी, दौलतगंज, बाड़ा पर जाम की स्थिति बनी रही। वाहन चालकों को निकलने के लिए घंटों इंतजार करना पड़ा।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.