कोरोना की दवा का बेहद असरदार नतीजे का दावा, कोरोना को सामान्य जुकाम में बदलती है

यरूशलम. कोरोना वायरस से बचाव के लिए अब दुनियाभर डॉक्टर मौजूदा उपलब्ध दवाओं से ही इलाज कर रहे है। इस बीच इजरायल के वैज्ञानिकों ने दावा किया है कि मौजूदा एक दवा से कोरोना वायरस को सामान्य जुकाम में बदला जा सकता है और सबसे अच्छी बात ये है कि इस दवा की कीमत बेहद कम है। ये दवा हमारे पास के मेडिसीन स्टोर में भी आसानी से मिलती है।
फेनोफाइब्रेट कोरोना को सामान्य जुकाम में बदल सकता है
हिब्रू विश्वविद्यालय के एक शोधकर्ता ने दावा किया है कि बड़े पैमाने पर इस्तेमाल होने वाली कोलेस्ट्रॉल रोधी दवा (फेनोफाइब्रेट) कोरोना वायरस संक्रमण को सामान्य जुकाम में बदल सकता है। यह दावा संक्रमित मानव कोशिका पर दवा के इस्तेमाल के बाद किया गया। विश्वविद्यालय के ग्रास सेंटर ऑफ बायोइंजीनियरिंग में निदेशक प्रोफेसर याकोव नाहमियास ने न्यूयॉर्क के माउंट सिनाई मेडिकल सेंटर में बेंजामिन टेनोएवर के साथ संयुक्त शोध में पाया कि नोवेल कोरोना इसलिए खतरनाक है क्योंकि इसके कारण फेफड़ों में वसा का जमाव हो जाता है जिसे दूर करने में फेनोफाइब्रेट मददगार है।

कोरोना  सामान्य जुकाम की तरह हो जाएगा

विश्वविद्यालय की ओर से जारी बयान कहा गया हम जिस निष्कर्ष पर पहुंचे हैं यदि उसकी पुष्टि नैदानिक शोधों में भी होती है तो इस उपचार से कोविड-19 का जोखिम कम हो जाएगा और यह सामान्य जुकाम की तरह हो जाएगा। दोनों शोधकर्ताओं ने देखा कि सार्स-सीओवी-2 स्वयं को बढ़ाने के लिए मरीजों के फेफड़ों में किस तरह से बदलाव करता है और उन्होंने पाया कि वायरस कार्बोहाइड्रेट को जलने से रोकता है जिसके परिणामस्वरूप फेफड़ों की कोशिकाओं में वसा का जमाव हो जाता है और यही परिस्थिति वायरस के बढ़ने के लिए अनुकूल होती है। शोधकर्ताओं ने कहा, इसीलिए मधुमेह और उच्च कोलेस्ट्रॉल से पीडि़त लोगों के कोविड-19 की चपेट में आने की आशंका अधिक होती है। फेनोफाइब्रेट फेफड़ों की कोशिकाओं को वसा जलाने में मदद करती है और इस तरह इन कोशिकाओं पर वायरस की पकड़ कमजोर हो जाती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *