ह्यूमन ट्रायल शुरू, जल्द आ सकती है कोरोना वायरस की स्वदेशी वैक्सीन

नई दिल्ली. कोरोना वायरस की वैक्सीन तैयार करने की दिशा में दुनिया के देशों में भारत आगे के पायदान पर है। भारत बायोटेक और सिरम इंस्टिट्यूट की वैक्सीन के ह्यूमन ट्रायल को लेकर ड्रग कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया ने मंजूरी दे दी है। जायडस कैडिला की वैक्सीन भी तेजी से विकसित की जा रही है।
भारत बायोटेक व आईसीएमआर की वैक्सीन के ह्यूमन ट्रायल शुरू
जानकारी के अनुसार भारत बायोटेक और आईसीएमआर की वैक्सीन के ह्यूमन ट्रायल शुरू भी हो चुके है। इंडियन काउंसिल फॉर मेडिकल रिसर्च के डायरेक्टर जनरल डॉ. बलराम भार्गव ने आज यह दावा किया कि भारत वैक्सीन की दौड़ में दुनिया में आगे के पायदान पर ही चल रहा है। डॉ. भार्गव ने यह भी बताया कि वैक्सीन दुनिया का कोई भी देश बना ले उसके उत्पादन के लिए भारत पर निर्भर रहना ही होगा। वैक्सीन की उत्पादन क्षमता के मामले में भारत और चीन ही इतने सक्षम हैं कि बड़े पैमाने पर कम वक्त में ज्यादा वैक्सीन बना सकें। दुनिया के एक बडे हिस्से में इस्तेमाल होने वाली 60 प्रतिशत वैक्सीन भारत में ही बनकर जाती है।
100 से ज्यादा अलग कोरोना वैक्सीन पर काम चल रहा
डॉ. भार्गव ने आगे कहा कि दुनिया में 100 से ज्यादा अलग-अलग कोरोना वैक्सीन पर काम चल रहा है। इनमें रूस सबसे आगे है इसके बाद अमेरिका, चीन और यूरोप भी रेस में बने हुए है। स्वास्थ्य मंत्रालय के ओएसडी भरत भूषण के अनुसार कोरोना वायरस के बढने की दर पर भी तेजी से लगाम लगाई जा सकी है। मार्च में जहां 31 प्रतिशत की दर से मामले बढ़ रहे थे वहीं 14 जुलाई को यह दर घटकर महज 3 प्रतिशत रह गई है। फिलहाल सरकार का फोकस उन राज्यों पर है जहां से कोरोना वायरस के सबसे ज्यादा मामले सामने आ रहे है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *