MP Tourism- यह हैं मध्यप्रदेश के 5 सबसे प्रसिद्ध मंदिर, यह आप जरूर जाना चाहेंगे

भोपाल. देश में जब भी प्रसिद्ध मंदिरों का जिक्र किया जाता है तो सबके जहन हमें मध्यप्रदेश का नाम भी आता है। क्योंकि मध्यप्रदेश कुछ ऐसे प्रसिद्ध मंदिर है। जहां इंसान एक बार जरूर जाना चाहता है इसलिये धार्मिक लिहाज से मध्यप्रदेश का देश में खास महत्व है। सर्दियों का मौसम शुरू हो गया है। इस मौसम में लोग अक्सर परिवार के साथ घूमने का प्लान बनाते हैं। ऐसे मे ंहम आपको आज मघ्यप्रदेश के कुछ ऐसे मंदिरों के संबंध में बतायेंगे। जहां घूमने के साथ-साथ आपको पर्यटन का आनंद भी मिलेगा। तो जानिये मध्यप्रदेश के इन खास 5 मंदिरों और उनकी महिमा के बारे में।
Story of maa pitambara devi datiya mp | मां पीतांबरा के दरबार में अनसुनी नहीं जाती कोई पुकार | Patrika Newsमां पीताम्बरा मंदिर (दतिया)
मध्यप्रदेश के चंबल संभाग के दतिया शहर स्थित पीताम्बरा मंदिर पूरे देश में प्रसिद्ध है। यहां विराजमान माता बगुलामुखी को राजसत्ता की देवी भी कहा जाता है। देश के लगभग सभी बड़े राजनेता एक बार इस मां पीताम्बरा मंदिर में माथा टेकने के लिये जरूर आते है। वैसे तो माता के इस दरबार में सभी प्रकार के लोग आते हैं। लेकिन राजनीति से जुड़े लोग विशेष रूप से इस मंदिर से जुड़े हैं। ऐसा इसलिये क्योंकि इस देवी को ‘‘सत्ता की देवी’’ भी कहा जाता है। लेकिन यहां एक बार सबको जरूर जाना चाहिये। क्योंकि मान्यता है कि यहां माथा टेकने के बाद इंसान की सभी परेशानियां दूर हो जाती है तो इस बार सर्दियों में बांध लीजिये अपना बैग और अपने परिवार के साथ इन बेहतरीन मंदिरों के दर्शन के लिये निकल जाइये।

Madhya Pradesh: Lord Ramraja Sarkar Temple Of Orchha Will Be Decorated On The Lines Of Ayodhya - Madhya Pradesh: अयोध्या की तर्ज पर संवरेगा ओरछा का भगवान रामराजा सरकार मंदिर - Amar
ओरछा स्थित रामराजा मंदिर (निवाड़ी)
निवाड़ी जिले मंें स्थित ओरछा शहर मध्यप्रदेश का न केवल एक बड़ा पर्यटन केन्द्र बल्कि यहां प्रसिद्ध रामाराजा मंदिर भी है। रामराजा मंदिर की खासियत यह है कि यहां भगवान श्रीराम राजा के रूप में विराजमान हे। जहां उनको शस्त्र सलामी भी दी जाती है। ओरछा के राजा केवल राम हैं। इसलिये यहां का भी बड़ा नेता या अधिकारी बिलकुल सरल तरीके से अपना पद छोड़कर आता है। ओरछा बेतवा नदी के किनारे बसा है। जहां कई अन्य कई पर्यटन केन्द्र हैं। आंेरछा में हर साल ओरछा महोत्वस का आयोजन भी होता है। जिसमें देश विदेश के लोग जुटते हैं। इसके अलावा यहां आपको बुन्देलखंड की संस्कृति भी देखने को मिलेगी। इसलिये आप अगर कहीं घूमने का प्लान बना रहे हैं तो ओरछा आपके लिये अच्छी जगह हो सकती है।

मैहर मंदिर, माँ शारदा देवी धाम सम्पूर्ण यात्रा
सतना की मैहर वाली माता मंदिर
मध्यप्रदेश के सतनाए जिले में स्थित मैहर माता मंदिर प्रसिद्ध देवी स्थान होने के साथ-साथ खूबसूरत पर्यटन स्थल भी है। मैहर देवी मंदिर देवी पार्वती के 51 शक्तिपीठों में से एक है। ऐसा माना जाता है कि जब शिव जी जब माता सती का मृत शरीर ले जा रहे थे। तब उनका हार इस जगह पर गिर गया था और इसलिये इस जगह का नाम मैहर यानी कि (माई का हार) पड़ गया। खास बात यह है कि यह मंदिर त्रिकूट पहाड़ी के ऊपर बना हुआ है। जहां तक पहुंचने के लिये भक्तों को 1063 सीढियां चलना पड़ता है। हालपांकि अब यहां रोपवे की सुविधा शुरू हो गयी है। जबकि ऊ तक वाहन भी पहुंच सकते हैं। चारों ओर पहाड़ों से घिरा यह मंदिर एक खूबसूरत पर्यटन स्थल भी है। भक्त लोग ऐसे में यहां एक बार घूमने के लिये आते हैं।

ओंकारेश्वर भगदड़ कांड: 21 साल में भी जांच रिपोर्ट का अता-पता नहीं - where is enquiry report of omkareshwar stamped case - AajTak
खण्डवा का ओंकारेश्वर मंदिर
खण्डवा जिले में स्थित ओंकारेश्वर मंदिर 12 ज्योतिर्लिंगों में से एक है। यह मंदिर मध्यप्रदेश की प्रसिद्ध पवित्र नदी मां नर्मदा के किनारे स्थित है। जहां वर्षभर भक्तों की भारी भीड़ जुटती है। ऐसा कहा जाता है कि माता पार्वती और भगवान भोलेनाथ दिन भर कहीं भी रहें लेकिन रात विश्राम वह ओंकारेश्वर में ही करते हैं। ऐसा कहा जाता है कि दोनों चौसर खेलते हैं। इसलिये वहां भगवान के सामने चौसर सजाई जाती है औरे इसके अलावा बताया जाता है कि ओंकारेश्वर ओम पर्वत पर बसा हुआ है। जब इसे आप दूर से देखते हैं तो यह ओम आकार का नजर आता है। ऐसे में अगर आप घूमने का प्लान बना रहे हैं तो नर्मदा के सौन्दर्य के साथ-साथ आपको प्रसिद्ध भगवान ओंकारेश्वर के दर्शन भी होंगे।

उज्जैन के महाकाल बाबा की कुछ विशेष बातें | Some special things of Ujjain's Mahakal Baba
उज्जैन के बाबा महाकाल
देश के 12 ज्योतिर्लिंगों में से एक उज्जैन में स्थित बाबा महाकाल का प्रसिद्ध ज्योतिर्लिंग मंदिर मध्यप्रदेश का सबसे प्रसिद्ध मंदिर माना जाता है। यहां सुबह 5 बजे होने वाली भम्म आरती पूरी दुनिया में प्रसिद्ध है। जहां लाइव टेलीकास्ट भी किया जाता है। हाल ही में बाबा महाकाल मंदिर विस्तारीकरण योजना के तहत उज्जैन में ‘‘श्री महाकाल लोक’’ का निर्माण किया जा रहा है जिसका उद्घाटन प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने किया था। ‘‘श्री महाकाल लोक’’ भक्तों के लिये खोल दिया गया है। बाबा महाकाल कि महिमा की वजह से उज्जैन को बाबा महाकाल की नगरी में नाम से भी जाना जाता है। महाशिवरात्रि के दिन, हरवर्ष मंदिर के पास एक विशाल मेले का आयोजन किया जाता है और मंदिर पूरी रात खुला रहता है। इसके अलावा सावन के माह में यहां बाबा महाकाल की शाही सवारियां भी निकाली जाती है जो आकर्षण का बड़ा केन्द्र होती है। ऐसे में अगर आप किसी मंदिर में घूमने का प्लान बना रहे हैं। उज्जैन आप सड़क, रेल और वायु तीनों मार्गो से पहुंच

Leave a Reply

Your email address will not be published.