द आरोग्यम हास्पिटल का प्रबंधन निजी भवन में मरीजों को दे रहा था उपचार, छापेमार कार्रवाई

ग्वालियर. थाटीपुर में स्थित द आरोग्य मल्टीस्पेशियलिटी हास्पिटल प्रबंधन द्वारा मरीजों को निजी भवन में लिटाकर उपचार देने की शिकायत पर स्वास्थ्य विभाग ने छापेमार कार्रवाई की। निजी भवन पर ताला डला हुआ मिला जिसे स्वास्थ्य विभाग के अफसरों ने खुलवाकर देखा तो वहां पर मरीज तो नहीं मिले पर बेड व उपचार देने के सभी साधन उपलब्ध थे। मरीज को आक्सीजन देने वाली लाइन तक निजी भवन में डली हुई थी। जबकि द आरोग्यम हास्पिटल जिस भवन में खुला है उससे यह निजी भवन 50 मीटर दूर है और इस भवन के नाम पर स्वास्थ्य विभाग में पंजीयन भी नहीं था। टीम ने द आरोग्यम अस्पताल के मुख्य भवन जिसमें अस्पताल संचालित हो रहा है उसका भी निरीक्षण किया ताे वहां पर भी तमाम खामियां उजागर हुई हैं।

न बेड न डाक्टर,नाम का अस्पताल
द आरोग्यम सुपर स्पेशियलिटी हास्पिटल 100 से अधिक बेड के लिए पंजीकृत है। पर अस्पताल में इतने बेड मौजूद ही नहीं है। गजब की बात तो यह है कि अस्पताल में मरीजों की संख्या करीब 20 होगी लेकिन डाक्टरों की संख्या बेड के मुताबिक उपलब्ध नहीं थी। जबकि स्वास्थ्य विभाग के पास कागजों में डाक्टरों की संख्या दस अधिक दर्शाई गई है। बिना डाक्टर के अस्पताल संचालित हो रहे है पर स्वास्थ्य विभाग हर बार आखं व कान बंद कर लेता है। पर सोमवार को हुई छापेमार कार्रवाई में यह खामियां भी उजागर हो गईं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.