मप्र छत्तीसगढ़

मप्र छत्तीसगढ़

Newsअंतरराष्ट्रीयमप्र छत्तीसगढ़राजनीतिराज्य

बंगलादेश में फंसे भारतीय छात्रों के लिये मसीहा बनी BSF, 1 हजार छात्र भारत वापिस लौटै

नई दिल्ली. बंगलादेश में इन दिनों हालात सामान्य नहीं हैं। सरकारी नौकरियों में कोटा सिस्टम खत्म करने की मांग को लेकर छात्र हिंसक विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं। हालात को नियंत्रित करने के लिये राष्ट्रव्यापी कर्फ्यू लागू किया गया है और इसके बाद लगभग 1 हजार भारतीय छात्र बंगलादेश से वापिस लौट आये हैं। आपको बता दें कि हिंसक झड़पों में अभी तक 115 से अधिक लोग मारे गये हैं।
त्रिपुरा से सटे बंगलादेश के सीमावर्ती जिले ब्राहम्णबारिया मेडीकल कॉलेज में पढ़ने वाले 36 छात्रों के लिये बीएसएफ मसीहा बन गयी है। दरअसल, 20 जुलाइ्र की सुबह त्रिपुरा फ्रंटियर के महानिरीक्षक पीयूष पुरूषोत्तम पटेल के पास बंगला देश के ब्राहम्णबारिया मेडीकल कॉलेज में पढ़ने वाले एक छात्र के परिजन का फोन आया है। उन्हें वहां फंसे भारतीय छात्रों की दुर्दशा के बारे में बताया गया और साथ ही कहा कि इंटरनेट और मोबाइल नेटवर्क न होने की वजह छात्रों की कुशलक्षेम पता करना मुश्किल हो रहा है।
IG बीएसएफ ने कॉमिला में बॉर्डर गार्ड्स बांग्लादेश (BGB) के क्षेत्र कमांडर से कॉन्टेक्ट किया और दोनों सीमा सुरक्षाबलों के बीच चैनल एक्टिव किए गए. इसके बाद एक सुनियोजित ऑपरेशन में BSF और BGB ने मिलकर काम किया. BGB ने BOP अखुरा के पास बॉर्डर तक स्टूडेंट्स के सुरक्षित मार्ग का ध्यान रखा और उसके बाद BSF ने इन छात्रों की देखभाल की. बॉर्डर पर इन छात्रों को खाना उपलब्ध कराया गया. इसके बाद BSF की गाड़ियों से उन्हें उनके गंतव्य तक पहुंचाया गया।
भारतीय उच्चायोग ने 13 नेपाली छात्रों की वापसी में भी मदद की है. विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ने कहा, ‘जैसा कि आप जानते हैं, बांग्लादेश में विरोध प्रदर्शन चल रहे हैं. हम इसे देश का आंतरिक मामला मानते हैं. भारतीयों की सुरक्षा के संदर्भ में विदेश मंत्री एस जयशंकर खुद इस मामले पर करीब से नजर रख रहे हैं.’ पश्चिम बंगाल में भारत-बांग्लादेश सीमा पर स्थित बेनापोल-पेट्रापोल; गेडे-दर्शाना और त्रिपुरा में अखौरा-अगरतला क्रॉसिंग छात्रों और भारतीय नागरिकों की वापसी के लिए खुले रहेंगे. भारतीय उच्चायोग बीएसएफ और इमिग्रेशन ब्यूरो के समन्वय से बांग्लादेश से भारतीय छात्रों की वापसी की सुविधा प्रदान कर रहा है।

 

Newsमप्र छत्तीसगढ़राजनीतिराज्य

ऊर्जा मंत्री ने शिविर लगाकर की जन-सुनवाई में 500 हितग्राही लाभान्वित

ग्वालियर – ऊर्जा मंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर ने शनिवार को नगर निगम के क्षेत्रीय कार्यालय क्र-3 पर शिविर लगाकर जन-सुनवाई की। उन्होंने जन-सुनवाई में बड़ी संख्या में पहुँचे लोगों के बीच पहुँचकर उनकी समस्यायें सुनीं। साथ ही संबंधित अधिकारियों के माध्यम से आवेदनों का निराकरण कराया। जन-सुनवाई में शहर के वार्ड क्र.-7, 8 व 9 की विभिन्न बस्तियों मसलन गोसपुरा नं.-1, लधेड़ी, मदनपुरा, लूटपुरा, रानीपुरा, भीकमनगर, प्रेमनगर, न्यू ग्रेसिम विहार, सतीविहार, पीताम्बरा कॉलोनी, वैष्णो विहार एवं गदाईपुरा सहित क्षेत्र की अन्य बस्तियों से आए लोगों की समस्याओं का निराकरण किया गया।
जन-सुनवाई का लगभग 500 हितग्राहियों ने लाभ उठाया। इस अवसर पर कामकाजी एवं हाथ ठेला के लगभग 150 हितग्राही व राशन की पात्रता पर्ची के 104 हितग्राही लाभान्वित कराए गए। साथ ही 61 हितग्राहियों को पेंशन स्वीकृति पत्र सौंपे गए। इसके अलावा 41 आयुष्मान कार्ड सहित अन्य योजनाओं के तहत हितलाभ वितरित किए गए।
इस अवसर पर ऊर्जा मंत्री ने कहा कि सरकार की योजनाओं का लाभ अंतिम पंक्ति के अंतिम व्यक्ति को मिले, इस उद्देश्य से विभिन्न क्षेत्रीय कार्यालयों पर जन-सुनवाई की जा रही है। हमारा प्रयास है कि समस्याओं का आंकडा शून्य तक पहुँचे। उन्होंने संबंधित अधिकारियों को निर्देश दिए कि जन-सुनवाई में प्राप्त हुई शतप्रतिशत शिकायतों का निराकरण किया जाए।

Newsमप्र छत्तीसगढ़राजनीतिराज्य

रेलवे स्टेशन के उन्नयनीकरण में तेजी लाएं – सांसद

ग्वालियर – रेलवे स्टेशन के पुनर्विकास एवं सौंदर्यीकरण के कार्य में तेजी लाएं। टेंडर की शर्तों के अनुसार मार्च 2025 तक स्टेशन उन्नयनीकरण से संबंधित सभी कार्य पूरे कराए जाएं। यह बात सांसद भारतसिंह कुशवाह ने शनिवार को ग्वालियर रेलवे स्टेशन के उन्नयनीकरण कार्यों के निरीक्षण के दौरान रेलवे व कंस्ट्रक्शन कंपनी केपीसी इंफ्रा के अधिकारियों को दिए। उन्होंने स्टेशन का कार्य पूरा करने की प्रतिमाह की कार्ययोजना रेलवे के अधिकारियों व कार्य एजेंसियों से मांगी है।
निरीक्षण के दौरान ब्लॉक वाइज निर्माणाधीन भवनों, प्लेटफॉर्म निर्माण व अन्य कार्यों का बारीकी से जायजा लिया। साथ ही कहा कि प्लेटफॉर्म नम्बर-1 पर सर्कुलेशन एरिया बढ़ाया जाए। जिन पिलर का काम प्लिंथ लेवल तक हो चुका है वहां पर भराव कर मोटरेवल करें। सांसद ने कार्य एजेंसी से कहा कि श्रमिकों की संख्या बढ़ाकर काम को गति दें। बीते दिनों रिजर्वेशन काउण्टर की छत से प्लास्टर गिरा था, उस स्थल का भी सांसद ने जायजा लिया। साथ ही कहा कि जहां भी छत कमजोर है उसे सुरक्षित करें। दुर्घटना की स्थिति कदापि न बने।
ज्ञात हो लगभग 450 करोड़ रुपये की लागत से ग्वालियर रेलवे स्टेशन का कायाकल्प कर इसे अंतर्राष्ट्रीय स्तर के स्टेशन के रूप में तब्दील किया जा रहा है। स्टेशन के पुराने हेरिटेज वास्तु को संरक्षित रखते हुए अत्याधुनिक रूप देते हुए यात्री सुविधाओं का विस्तार किया हो रहा है। नए रेल्वे स्टेशन को 24 घंटे में डेढ़ लाख यात्रियों की क्षमता के हिसाब से बनाया जा रहा है।

Newsमप्र छत्तीसगढ़राजनीतिराज्य

शहर की महत्वपूर्ण सड़क निर्माण में बाधा बन रहे अतिक्रमण हटाए 

जिला प्रशासन, नगर निगम, पुलिस व पीडब्ल्यूडी की संयुक्त टीम ने की कार्रवाई 
ग्वालियर – शहर से होकर गुजर रही पुरानी एबी रोड़ चौड़ीकरण में रामाजी का पुरा से कटीघाटी तक के हिस्से में बाधा बन रहे अतिक्रमण हटाने की कार्रवाई शनिवार को शुरू की गई। जिला प्रशासन, नगर निगम, लोक निर्माण व पुलिस की संयुक्त टीम ने इस कार्रवाई को अंजाम दिया। टीम द्वारा एबी रोड़ के अस्थायी अतिक्रमण मसलन टीनशेड, चबूतरे व गुमटियां इत्यादि हटाई गईं। साथ ही पक्के निर्माण हटाने के लिये संबंधित लोगों को 3 दिन की और मोहलत दी गई है।
एसडीएम ग्वालियर सिटी अतुल सिंह ने बताया कि पुरानी एबी रोड़ के चौड़ीकरण में बाधा बन रहे अतिक्रमणों को हटाने के लिये नगर निगम द्वारा पिछले 6 माह से संबंधित लोगों को लगातार नोटिस दिए जा रहे हैं। साथ ही एक हफ्ते पहले अधिकारियों ने मौके पर पहुँचकर लोगों को स्वत: ही अतिक्रमण हटाने के लिये समझाइश भी दी गई थी। जिन लोगों ने बार-बार मौका दिए जाने के बाबजूद अतिक्रमण नहीं हटाए हैं, ऐसे लोगों के अस्थायी अतिक्रमण हटाने की कार्रवाई शनिवार को शुरू की गई। साथ ही स्थायी अतिक्रमण हटाने के लिये एक बार फिर से 3 दिन की मोहलत दी गई है। उन्होंने बताया कि शहर की अत्यंत महत्वपूर्ण सड़क के चौड़ीकरण कार्य में रूकावट डाल रहे अतिक्रमण हटाने की कार्रवाई लगातार जारी रहेगी।
शनिवार को सड़क से अतिक्रमण हटाने के लिये गई टीम में एसडीएम ग्वालियर, अपर आयुक्त नगर निगम मुनीष सिकरवार, तहसीलदार सतेन्द्र सिंह, बहोड़ापुर थाना प्रभारी सहित बहोड़ापुर एवं अन्य पुलिस थानों का पुलिस बल, नगर निगम का मदाखलत दस्ता और पीडब्ल्यूडी के अधिकारी-कर्मचारी शामिल थे।
Newsमप्र छत्तीसगढ़राजनीतिराज्य

कांग्रेस नेता गोविंद सिंह की कोठी पर चल सकता है बुलडोजर, राजस्व और पुलिस की टीम घुसी कोठी में

मौके पर भारी संख्या में पुलिस फोर्स तैनात किया गया है। टीम कोठी के अंदर घुसी तो डॉ. गोविंद के समर्थकों ने विरोध कर दिया।

भिंड. लहार में कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और एमपी विधानसभा के पूर्व नेता प्रतिपक्ष डॉ. गोविंद सिंह की कोठी की नपाई की जा रही है। राजस्व विभाग की टीम भारी पुलिस बल और क्यूआरएफ के साथ कोठी के भीतर घुसी। डॉ. गोविंद सिंह के समर्थकों ने टीम का विरोध कर दिया है और कुछ देर तनाव की स्थिति बनी हुई है। लहार एसडीएम विजयसिंह यादव ने टीम का सहयोग करने की अपील की है।

एसडीएम ने डॉ. गोविंद के समर्थकों को समझाइश दी। कहा- राजस्व टीम का सहयोग करें। इसके बाद भी नहीं माने तो और पुलिस बुलानी पड़ी।
कोठी सरकारी जमीन पर कब्जा करके बनायी जाने की शिकायत के बाद से नपती की जा रही है। सरकारी जमीन पर कब्जा पाया जाता है तो कोठी पर बुलडोजर चल सकता है। इधर डॉ. गोविंद सिंह ने लहार भाजपा विधायक अंबरीश शर्मा पर आरोप लगाते हुए है कि वह दुश्मनों जैसा व्यवहार कर रहे हैं। हमारे कार्यकर्त्ताओं को चुन-चुन कर जेल में भेज रहे हैं। अब हमारा मकान तुडवाकर अपमानित करने का काम कर रहे है।
मैंने 1 इंच सरकारी जमीन पर कब्जा नहीं किया-डॉ. गोविंद सिंह
डॉ. गोविंद सिंह ने कहा है कि मैंने अपने जीवन में 1 इंच भी सरकारी जमीन या किसी दूसरे की जमीन पर कब्जा नहीं किया है। लहार विधायक के पिता का मकान 80प्रतिशत सरकारी जमीन पर बना हुआ है। लहार में लगभग 40प्रतिशत मकान सरकारी जमीन पर बने है। इस पर प्रशासन क्यों मौन है।
लोगों ने की थी सरकारी रास्ते पर कब्जा कर कोठी बनाने की शिकायत
पूर्व नेता प्रतिपक्ष के लहार स्थित कोठी के सीमांकन का मुद्दा गरमाया हुआ है। आज सीमांकन के लिए राजस्व विभाग की टीम सबसे पहले मढ़यापुरा स्थित प्राचीन हनुमान मंदिर पहुंची। यहां से नपाई शुरू की गई। मेन रोड से कोठी नापी जाएगी। कोठी और आसपास के एरिया में दो सर्वे नंबर की तलाश की जाएगी। यह सर्वे नंबर सरकारी बताया जा रहा है। इन दोनों सर्वे नंबर को लेकर ही वार्ड 12 के रहने वाले जाटव समाज के लोगों ने शिकायत की थी कि कोठी सरकारी रास्ते पर कब्जा कर बनाई गई है।
डॉ. गोविंद के बेटे की याचिका खारिज
18 जुलाई को भी टीम नाप के लिए पहुंची थी, लेकिन तब नपाई पूरी नहीं हो सकी। इसके दूसरे दिन 19 जुलाई को कांग्रेस नेता के बेटे अमित प्रताप सिंह ने सीमांकन रोकने के लिए हाईकोर्ट में याचिका दायर कर दी। यह खारिज हो गई। ऐसे में आज फिर कार्रवाई शुरू की गई है।

LatestNewsमप्रमप्र छत्तीसगढ़राज्य

ग्वालियर व्यापार मेला प्राधिकरण लगाएगा सावन मेला, दुकान किराये में मिलेगी पचास फीसदी की छूट

ग्वालियर. ग्वालियर व्यापार मेला प्राधिकरण पहली बार सावन मेला आयोजित करने जा रहा है। इसके लिए मेला प्राधिकरण द्वारा दुकानदारों से संपर्क स्थापित करने के साथ ही दुकान आवंटन की प्रक्रिया जल्द ही शुरू की जाएगी। दुकानदारों को प्रोत्साहित करने के लिए प्राधिकरण दुकान किराये में 50 प्रतिशत की छूट दे रहा है। इतना ही नहीं बिजली बिल में छूट का भी प्रविधान भी रखा गया है। सावन मेले का आयोजन 1 अगस्त से 30 अगस्त तक करने का निर्णय लिया गया है।
मेले में आने वाले सैलिानियों को विभिन्न पकवानों के कई स्टॉल भी नजर आएंगे। इसके अलावा यहां अन्य वस्तुओं की सेल भी लगाई जाएंगी जो विशेष आकर्षण का केंद्र रहेंगी। सावन मेले में गांव की थीम भी देखने को मिलेगी। यहां गांव में पेडों पर डाले जाने वाले झूले लगाए जाएंगे। इससे बच्चे, महिलाएं व अन्य आनंद लेस सकें। इसके अलावा सेल्फी और फोटो के लिए प्वाइंट भी बनाए जाएंगे। दोपहर 12 बजे से मेले को सैलानियों के लिए खोला जाएगा।

LatestNewsमप्रमप्र छत्तीसगढ़राज्य

मुरैना में प्रशासन की टीम पर पथराव करने व जाम लगाने वाले 100 पर FIR दर्ज

मुरैना. मंदिर की जमीन से जाम हटाने गई प्रशासन की टीम पर पथराव करने और फिर जाम लगाने वाले 100 से ज्यादा लोगों पर पुलिस ने शासकीय कार्य में बाधा व जाम लगाया यातायात बाधित करने की धाराओं में केस दर्ज कर लिया है। पथराव व जाम लगाने के आरोपितों में महिलाएं भी शामिल है। गौरतलब है कि नेशनल हाईवे 552 बागचीनी चौखट्टा पर महादेवजी बांके दुल्हेनी मंदिर की जमीन है जिसके एक हिस्से मंे हडबांसी गांव के बालट्टर शर्मा, अवनीश शर्मा, रामप्रकाश शर्मा, रामनरेश शर्मा पुत्रगण रामसनेही शर्मा ने कब्जा कर चार मकान व 10 दुकानें बना ली थी। दुल्हेनी रामजानकी मंदिर के पुजारी ऋषिकेश गोस्वामी ने ग्वालियर हाईकोर्ट इसके खिलाफ गुहार लगाई थी जिसकी सुनवाई करते हुए कोर्ट ने मुरैना कलेक्टर को अतिक्रमण हटाने के निर्देश दिए थे।
राजस्व व पुलिस टीम अतिक्रमण तोडने गई थी
कार्रवाई के दौरान भीड ने प्रशासन की टीम पर पथराव कर दिया जिसमें एक आरक्षक घायल हो गया वहीं कई सरकारी वाहन क्षतिग्रस्त हो गए। पुलिस ने आंसूगैस के गोले छोडकर लाठीचार्ज कर भीड को तितरबितर किया। इसके कुछ देर बाद तीन महिलाओं को मृत बताकर उन्हें शव की तरह नेशनल हाईवे पर रखकर पौन घंटे से ज्यादा समय तक जाम लगाकर हंगामा किया। इसी मामले में हुरहेडी के पटवारी नरेश पुत्र रामप्रवेश सिंह सिकरवार की शिकायत पर बागचीनी थाने में 100 से अधिक अज्ञात महिला और पुरूषों पर भारतीय न्याय संहिता की धारा 191(2), 191(3), 13, 2221, 126(2) के तहत केस दर्ज किया है। इस मामले की जांच बागचीनी थाना प्रभारी राजकुमार परमार खुद कर रही हैं।

LatestNewsमप्रमप्र छत्तीसगढ़राज्य

ग्वालियर में 9वीं की छात्रा से गैंगरेप, तीन आरोपी गिरफ्तार

ग्वालियर. 9वीं क्लास की छात्रा के साथ गैंगरेप और वीडियू वायरल करने के मामले में पुलिस को बडी सफलता मिली है। मामला दर्ज होने के बाद 36 घंट में तीनों आरोपियों को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। मुख्य आरोपी सहित दो आरोपियों कृष्णा व सत्यम को पुलिस ने शुक्रवार को गिरफ्तार किया था जबकि तीसरा आरोपी अंकेश शनिवार सुबह पुलिस के हाथ लगा है। अंकेश ने ही छात्रा का वीडियाू शूट किया था। उसके मोबाइल से पुलिस ने वीडियाू रिकवर कर लिया है। अब पुलिस तीनों से पूछताछ कर रही है।
यह है पूरा मामला
ग्वालियर के मोहना में 9वीं की छात्रा की कुछ समय पूर्व सोशल मीडिया के इंट्राग्राम पर एक लडके से दोस्ती हुई थी। जिसका नाम कृष्णा सोनी है। कुछ दिन में यह दोस्ती गहरी होती चली गई। 1 जून को कृष्णा ने छात्रा को मिलने बुलाया था। छात्रा घर से कोचिंग जाने की कहकर निकली थी। हाईवे पर कृष्णा उसे कार लेकर मिला इसके बाद वह छात्रा को घुमाने की कह कर ले गया। कार कृष्णा का दोस्त सत्यम बाथम चला रहा था जबकि उसके पास ही आगे की सीट पर अंकेश रावत बैठा था। इसी दौरान कृष्णा ने छात्रा से जबरदस्ती शुरू कर दी। छात्रा ने विरोध किया तो तीनों ने उसे धमकाया। इसके बाद उसके साथ गैंगरेप किया गया। छात्रा का वीडियाू शूट कर लिया गया। इस घटना के बाद आरोपी उसे ब्लैकमेल कर रहे थे। उसे वापस बुला रहे थे। छात्रा जब नहीं आई तो उन्होंने वीडियो वायरल कर दिया। यह वीडियो छात्रा के रिश्तेदारों के हाथ से होता हुआ परिजन तक पहुंचा तब मामले का खुलासा हुआ ।
कार, मोबाइल बरामद
पुलिस ने तीनों आरोपियों को पकडने के बाद वारदात में उपयोग कार, जिस मोबाइल से वीडियाू शूट किया गया था वह मोबाइल भी बरामद कर लिया है। पुलिस ने मोबाइल से डिलीट की गई छात्रा की अश्लील वीडियो भी रिकवर कर ली है। इसी वीडियो को दिखाकर आरोपी छात्रा को ब्लैकमेल कर रहे थे।
कोर्ट में पेश किए जाएंगे
इस मामले में मोहना थाना प्रभारी राशिद खान ने बताया कि तीनों आरोपियों को पकड लिया गया है। कार, मोबाइल बरामद कर लिए है। शनिवार शाम को तीनों आरोपियों को कोर्ट में पेश किया जाएगा।

 

LatestNewsमप्रमप्र छत्तीसगढ़राज्य

UPSC चेयरमैन मनोज सोनी ने इस्तीफा दिया

नई दिल्ली. संघ लोक सेवा आयोग के अध्यक्ष मनोज सोनी ने निजी कारणें का हवाला देते हुए इस्तीफा दे दिया है। उन्होंने कहा कि इस्तीफे के बाद सामाजिक और धार्मिक कामों पर ध्यान देंगे। उन्होंने 14 दिन पहले अपना इस्तीफा कार्मिक विभाग को भेजा था इसकी जानकारी आज सामने आई है। अभी इस्तीफा स्वीकार नहीं हुआ है। उनका कार्यकाल मई 2029 तक था। उन्होंने 16 मई 2023 को यूपीएससी के अध्यक्ष के रूप् में शपथ ली थी।
राज्यसभा सांसद ने कहा विवादों के बीच पद से हटाया गया
इस्तीफे की जानकारी आने के बाद मनोज सोनी ने कहा कि उनका इस्तीफा ट्रेनी आईएएस पूजा खेडकर के विवादों और आरोपों से किसी भी तरह से जुडा नहीं है। वहीं कांग्रेस लीडर और राज्यसभा सांसद जयराम रमेश ने चेयरमैन के इस्तीफे पर कहा है कि उन्हें यूपीएससी से जुडे विवादों के बीच पद से हटाया गया है। उन्होंने कहा कि 2014 से अब तक लगातार संवैधानिक बॉडी की शुचिता बुरी तरह प्रभावित हुई है।

Newsमप्र छत्तीसगढ़राजनीतिराज्यराष्ट्रीय

दिग्गज जौहरी भगवान जगन्नाथ मंदिर के खजाने अनुमान तक नहीं लगा सके थे, 1978 में हुई दुर्लभ रत्नों की गणना

नई दिल्ली. ओडिशा में भगवानर जगन्नाथ मंदिर का खजाना 46 वर्षो के बाद खोला गया। इस मंदिर में भगवान जगन्नाथ, उनके बड़े भाई बलभद्र और बहन सुभद्रा विराजमान है। 12वी सदी में बने इस मंदिर के रत्न भंडार में कई दुर्लभ रत्न, सोने-चांदी के ज्वेलरी मौजूद है। इनमें भगवान के कीमती जेवरात बर्तन, राजाओं के मुकुट और भक्तों के द्वारा दान में दी गयी सोने-चांदी की बेशकीमती चीजें शामिल हैं।
वर्ष 1978 में जगन्नाथ मंदिर के खजाने को जब खोला गया था तो रत्नों की कीमत का आकलन करने में लिये जौहरी बुलाये गये थे। लेकिन वह भी खजाने की कुल कीमत का अंदाजा नहीं लगा सके थे। उस समय खजाने की गणना के लिये मुंबई और गुजरात से जौहरी आये थे जो खजाने में मौजूद दुर्लभ रत्नों को देख कर हैरान रह गये थे।


Warning: Undefined array key "sfsi_plus_copylinkIcon_order" in /home/webhutor/newsmailtoday.com/wp-content/plugins/ultimate-social-media-plus/libs/sfsi_widget.php on line 275
RSS
Follow by Email