पूर्व कुलपति बीके कुठियाला समेत 18 लोगों पर ईओडब्ल्यू ने एफआईआर दर्ज की

भोपाल. माखनलाल चतुर्वेदी राष्ट्रीय पत्रकारिता एवं संचार विश्वविद्यालय में हुई अनियमितताओं में पूर्व कुलपति बीके कुठियाला समेत 18 लोगों के खिलाफ रविवार को ईओडब्ल्यू ने एफआईआर दर्ज की है। हाल ही में विश्वविद्यालय प्रशासन ने 3 सदस्यीय कमेटी की जांच रिपोर्ट ईओडब्ल्यू को सौंपी थी। डीजी ईओडब्ल्यू केएन तिवारी का कहना है कि इस मामले में जल्द ही कुछ गिरफ्तारियां भी की जाएंगी।
क्या है पूरा मामला
रिपोर्ट में तत्कालीन कुलपति प्रो. बीके कुठियाला के 2 कार्यकाल में अपात्र लोगों की नियुक्तियों और वित्तीय गड़बड़ी का खुलासा हुआ था इसी के बाद मामला दर्ज किया गया। रिपोर्ट में कहा गया है कि कुठियाला ने खुद तो लंदन की यात्रा की और साथ में पत्नी को भी विवि के खर्च पर यात्रा कराई। इस राशि को 5 महीने बाद एडजस्ट किया गया। विवि के खर्च पर 13 ऐसे टूर पर गए जिसमें प्रशासनिक व वित्तीय नियमों का सीधे तौर पर उल्लंघन किया गया। उन्होंने ब्लेडर सर्जरी के लिए 58,150 रुपए, आंख के ऑपरेशन के लिए 1,69,467 रुपए समेत एक अन्य बीमारी के लिए 20 हजार रु. का भुगतान भी यूनिवर्सिटी से प्राप्त किया। नियमानुसार गंभीर बीमारी में ही मेडिकल रिबर्समेंट मिलता है।
ये गड़बडि़यां पाई गयी
मापदंडो का ध्यान नहीं रखा गया। मानकों का पालन किए बगैर जगह जगह स्टडी सेंटर खोले गए इसके लिए डायरेक्टर एसोसिएट स्टडी सेंटर जवाबदार हैं।
अधिकारी और कर्मचारी भ्रष्ट गतिविधि में लिप्त है उन्होंने वित्त, प्रशासन, अकादमी और भंडार-क्रय, परीक्षा और प्रकाशन शाखा में गड़बड़ी की।
विवि के शिक्षक और अधिकारियों ने एक विशेष विचारधारा के लिए काम किया।
बड़े पैमाने में अनियमितताएं हुईं। भ्रष्ट प्रथाओं को उजागर करने वाले तथ्य और विश्वविद्यालय में समझौतों की बात सामने आई है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

users online