मुंबई ताज होटल पर हुए हमले को चीन ने 11 वर्ष के बाद माना आतंकी हमला

बीजिंग. चीन ने 2008 में लश्कर-ए-तैयबा द्वारा मुंबई में ताज होटल सहित कई ठिकानों परद हमला किया था जिसमें 165 लोग मारे गये थे चीन ने शियानजियांग प्रांत में मुस्लिमों खिलाफ की जा रही कार्यवाही को लेकर निकाले श्वते पत्र में कहा है कि पिछले कुल वर्षो में आतंकवाद और अतिवाद के वैश्चिक स्तर पर फैलने से मानव सभ्यता पर खासा असर पड़ा हैं।
शांति के लिख खतरा है आतंकवाद
आतंकवाद और अतिवाद के खिलाफ लड़ाई और शियानजियांग में मानवाधिकारों के संरक्षण नाम से प्रकाशित इस पत्र को तब जारी किया गया है, जब पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी चीन की यात्रा पर हैं। पत्र के मुताबिक, आतंकवाद ने दुनियाभर में शांति और विकास के लिए खतरा पैदा किया है। आतंकवाद से लोगों के जीवन और संपत्ति को नुकसान पहुंचा है।
श्वेत पत्र में चीन ने आतंकवाद की समस्याओं को उस समय उठाया है जबकि कुछ दिनों पहले ही चीन ने संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में जैश सरगना मसूद अजहर को वैश्विक आतंकी करार देने के प्रस्ताव पर तकनीकी रोक ;टेक्निकल होल्डद्ध लगा दी। चीन के इस कदम को भारत ने निराशाजनक बताया था।
उधर, मुंबई आतंकी हमले में 9 आतंकी पुलिस के हाथों मारे गए थे जबकि एक आतंकी अजमल कसाब जिंदा पकड़ा गया था। बाद में कसाब को फांसी की सजा दी गई। मुंबई हमले का मुख्य साजिशकर्ता और जमात उद दावा का सरगना हाफिज सईद पाक में खुले आम घूम रहा है। अमेरिका ने सईद के बारे में सूचना देने वाले को एक करोड़ डॉलर के इनाम की घोषणा की है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

users online