सहकारिता घोटाला के खिलाफ हजारों किसान लामबंद, धरना

ग्वालियर. सुबह 11 बजे से किसानों ने सहकारिता विभाग की जिला बैंक में हुए करोड़ों रूपये घोटाले के विरोध में फूलबाग मैदात में धरना देते हुए अपनी आवाज बुलंद की। चारों ओर से किसान फूलबाग मैदान आने से पूर्व उनके वाहनों को वीरांगना लक्ष्मीबाई समाधि के सामने पार्क कराये गये । पूर्व विधायक बृजेन्द्र तिवारी ने कहा कि मुझे सहकारिता विभाग के अधिकारियों से ज्यादा जानकारी है। उन्होंने कहा कि जब तक बैंक की कार्यवाही के संबंध में सकारात्मक कार्यवाही का आश्वासन नहीं मिल जाता है जब तक मैं यहां से नहीं हटूंगा। घरनास्थल सीएसपी देवेन्द्र कुशवाह, एसडीएम ने मंच पर पहुंच किसानों की जिज्ञासाओं को शांत किया और भरोसा दिलाया कि सीमित समय में बैंक में घोटाला करने वाले अधिकारियों को सलाखों के पीछे पहुंचायेंगे, इस बात को सुनने के बाद ही किसान धरना आन्दोलन को समाप्त करने के लिये तैयार हुए। पहुंचे सहकारिता विभाग में हुए 120 करोड़ रुपए के घोटाले के खिलाफ लामबंद जिले के हजारों किसान आज फूलबाग मैदान पर हुंकार भर रहे हैं। यहां हो रही किसान पंचायत के लिए शहर के चारों ओर के ग्रामीण क्षेत्रों से पहुंच रहे किसानों के कारण कई जगह सड़कों पर ट्रेफिक जाम जैसे हालात बने हुए हैं। इस बीच को लेकर चिंता में हैं कि अगर मामला फूलबाग मैदान में ही निपट गया तो ठीक वरना कमिश्नरी का घेराव की नौबत आने पर तनाव की स्थिति किसानों से जुड़े मामले को लेकर समूचा प्रशासन बेहद गंभीरता से इस पर नजरें गढ़ाए बैठा है।
कुछ मांगों पर बनी बात
सूत्रों के अनुसार आंदोलन को फूलबाग में ही निपटाने के लिए गत दिवस संभागायुक्त बीएम शर्मा की पहल पर प्रशासन और आंदोलन का नेतृत्व कर रहे बृजेन्द्र तिवारी के बीच 2 दौर की चर्चा हो चुकी है। ऐसा बताया जाता है कि बातचीत के दौरान घोटाले में दोषी पाए गए प्रबंधकों पर एफआईआर और फरार घोटालेबाजों की 15 दिन में गिरफ्तारी की मांग पर सहमति बन गई है।
यहां फंसा पेंच
इसके अलावा तीसरी मांग पर पेंच फंस जाने से मामला अधर में अटक गया। दरअसल जांच के दौरान जिन लोगों के नाम पर फर्जी तरीके से पैसा निकाला जाना साबित हुआ है उनको निर्दोष मानते हुए उन्हें खाद बीच दिए जाने की मांग पर रोड़ अटक जाने से गतिरोध बना हुआ है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

users online