जीवाजी विश्वविद्यालय -पुलवामा हमले में आतंकियों का समर्थन देने वाले कश्मीरी छात्र खिलाफ पुलिस को मिले सुबूत

ग्वालियर. पुलवामा हमले में आतंकियों को सोशल मीडिया पर समर्थन देने के बाद जीवाजी विश्वविद्यालय के कश्मीरी छात्र मुसादिक फैयाज निवासी बांदीपुर कश्मीर ने हरकत को छिपाने के लिए पोस्ट को डिलीट कर दिया है हालांकि उसकी करतूत पकड़ी गई। खुफिया एजेंसियों ने उस पोस्ट को तलाश लिया है जिसमें मुसादिक ने दहशतगर्दी का समर्थन किया है।
क्या है पूरा मामला
पुलवामा हमले के कुछ देर बाद ही जीवाजी विश्वविद्यालय के कश्मीरी छात्र मौहम्मद सैफी ने अपनी फेसबुक आईडी पर समर्थिंग चिल (कुछ ठंडक) लिखकर हमले पर खुशी जाहिर की थी। सैफी की इस हरकत का मुसादिक ने उसकी पोस्ट को लाइक कर समर्थन किया था हालांकि मुसादिक की करतूत उसके साथ पड़ने वाले छात्रों की नजर में आ गई। यह करतूत पकड़े जाने के बाद मुसादिक ने बचने के लिए सैफी की पोस्ट पर किया लाइक हटा दिया है और मामले की चल रही अंदरूनी पड़ताल में पोस्ट का स्क्रीन शॉट पुलिस और खुफिया एजेंसियों को थमाया गया है।
कि उम्मीद कम है कि मुसादिक डिग्री लेने आएगा
मुसादिक को 23 फरवरी को डिग्री लेने के लिए जीवाजी विश्वविद्यालय आना है यहां उससे जवानों पर आत्मघाती हमला करने वालों को समर्थन देने वाली पोस्ट को पंसद करने की वजह को लेकर पूछताछ की जाएगी। उधर जीवाजी विश्वविद्यालय के छात्रों का कहना है कि उम्मीद कम है कि मुसादिक डिग्री लेने के लिए कश्मीर से आएगा क्योंकि उसे भी पता है उसकी हरकत पुलिस की नजर में आ चुकी है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

users online