भीमा, कोरेगांव हिंसाः नक्सलियों से संपर्क रखने वाले 6 कार्यकर्ताओं के 8 ठिकानों पर छापा, 2 अरेस्ट

मुंबई. महाराष्ट्र के भीमा, कोरेगांव हिंसा केस में पुणे पुलिस ने मंगलवार को 5 राज्यों में छापा मारा। इस दौरान हैदराबाद से वामपंथी कार्यकर्ता वारावरा राव और छत्तीसगढ़ में ट्रेड यूनियन कार्यकर्ता सुधा भारद्वाज की अरेस्ट हुई। दिल्ली में गौतम नवलखा को नजरबंद किया गया। पुलिस ने अलग अलग शहारों में 6 सामाजिक कार्यकर्ताओं से पूछताछ की यह कार्यवाही एल्गर परिषद और नक्सलियों के संपर्क की जांच के बाद की गई। एल्गर परिषद के कार्यक्रम में 31 दिसंबर को हिंसा हुई थी।
क्या है पूरा मामला
एक वरिष्ठ पुलिस अफसर के मुताबिक हैदराबाद में वामपंथी कार्यकर्ता और कवि, वारावरा राव, मुंबई में वेरनन गोंजालवेज और अरूण फरेरा, फरीदाबाद और छत्तीसगढ़ में ट्रेड यूनियन कार्यकर्ता सुधा भारद्वाज और दिल्ली में सामाजिक कार्यकर्ता गौतम नवलखा के घर छापेमारी हुई। हिंसा से जुड़े एक आरोपी के घर की जून में तलाशी ली गई थी। यहां से मिली चिट्ठी में वारवरा राव का नाम था।
चिट्ठी में मोदी की हत्या की साजिश का उल्लेख
पुणे पुलिस का दावा था कि आरोपी से मिली चिट्ठी में लिखा, पीएम नरेंद्र मोदी हिंदूवादी नेता है और देश के 15 राज्यों में उनकी सरकारें है अगर वह इसी रफ्तार से आगे बढ़ते रहे तो बाकी पार्टियों के लिए मुश्किलें बढ़ जाएंगे। ऐसे में मोदी के खात्मे के लिए सख्त कदम उठाने होंगे इसलिए कुछ वरिष्ठ कामरेडों ने कहा है कि राजीव गांधी हत्याकांड जैसी घटना को अंजाम देना होगा। यह मिशन फेल भी हो सकता है लेकिन पार्टी में इस प्रस्ताव को रखा जाना चाहिए। पीएम मोदी को मारने के लिए रोड शो का समय सबसे सही समय होगा। इसी चिट्ठी में एम 4 राइफल और गोलियां खरीदने के लिए 8 करोड़ रुपए की जरूरत होने की बात लिखी गई।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

users online