दूषित पानी से बीमार 250 मरीज, 40 गंभीर, पानी से हुए संक्रमण से जान को खतरा

ग्वालियर. मेहरा कॉलोनी क्षेत्र में गंदे पानी के कारण मरीजों की संख्या लगभग 250 तक जा पंहुची है। इन मरीजों में से 40 ऐसे है जिनकी हालत बेहद नाजुक बनी हुई है। इसके अलावा 75 बच्चे और सामने आए है। इनमे से 35 बच्चों की हालत ज्यादा चिंताजनक है। प्राइवेट और सरकारी अस्पतालों में भर्ती इन मरीजों का इलाज लगातार किया जा रहा है।
ऐसा बताया जा रहा है कि दूषित पानी के कारण गंभीर संक्रमण की चपेट में आए इन मरीजों की तबीयत में 4 से 5 दिन बाद सुधार आएगा। जिस तरह का संक्रमण हुआ है उससे जान को भी खतरा है। हैरानी की बात ये है कि स्वास्थ्य महकमें ने क्षेत्र मे जिन मरीजों को दवाइयां बांटी वह दवा बेअसर साबित हुई। उस दवा को खाने के बाद मरीजों में मामूली सुधार तक नहीं हुआ। लिहाजा मेहरा कॉलोनी क्षेत्र में आज फिर पहुंचे स्वास्थ्य महकमें के चिकित्सकों ने परीक्षण के बाद वहां संक्रमण के कारण बुखार व उल्टी, दस्त से पीडि़त मरीजों को बदलकर दवाइयां दी गई। वहीं नगरीय निकाय मंत्री श्रीमती माया सिंह की नाराजगी के बाद दूषित पानी की सप्लाई को रोकने के लिए चोक हुए चेंबर के लीकेज सुधारने में नगर निगम के अधिकारी जुट गए है।
साफ पानी का सैंपल लिया, रिपोट आएगी कल
जिस पानी को पीने से इतनी बड़ी तादाद में लोगों की तबीयत बिगड़ी उसमें कौन से जहरीले तत्व थे। इसका खुलासा लिए गए सैंपल की रिपोर्ट से संभव हो सकेगा। ऐसा बताया जाता है कि पानी के सैंपल की रिपोर्ट कल मंगलवार को आएगी। वहीं स्थानीय लोगों की माने तो पीएचई के अधिकारियों द्वारा जो सैंपल लिया गया वह पानी साफ था जबकि इसके पहले जो पानी सप्लाई हो रहा था वह बहुत गंदा था जिसके कारण सैकड़ों लोग बीमार पड़ गए।
निजी अस्पताल संचालक बोले निशुल्क होगा इलाज
गंभीर मरीज शहर के अलग अलग अस्पतालों में भर्ती है लेकिन इनमे से अधिकतर मरीजों का इलाज क्षेत्र के ही एक निजी अस्पताल में हो रहा है। अस्पताल के संचालक डॉ. वाचस्पति शर्मा ने कहा है कि मेहरा कॉलोनी व उसके आसपास के क्षेत्रों से आए मरीज उनके यहां भर्ती है या भर्ती होंगे उनका उपचार निशुल्क किया जाएगा। डॉ. शर्मा ने बताया कि ऐसे मरीजों को ठीक होने में 4 से 5 दिन लग जाते है। दूषित पानी के कारण डायरिया, डिहाईड्रशन हो जाता है। समय पर सही इलाज नही मिलने से यह संक्रमण मरीज के लिए बड़ा खतरा भी बन जाता है।
मंत्री माया सिंह की नाराजगी के बाद जुटा अमला
प्रदेश की नगरीय निकाय मंत्री श्रीमती माया सिंह अस्पतालों में भर्ती मरीजों से मिलने पंहुची। इसके बाद उन्होंने मेहरा कॉलोनी व उसके आसपास के क्षेत्रों में भी पंहुची लोगों से बात करने पर स्पष्ट हो गया कि पानी सप्लाई में सीवर के पानी के जाने से ही हालात बिगड़े है लोगों ने जब बताया कि उन्होंने पूर्व में ही गंदे पानी की शिकायत की थी इस पर मंत्री श्रीमती माया सिंह ने अधिकारियों को जमकर लताड़ लगाई उन्होंने कहा कि फौरन वाटर सप्लाई में लीकेज हो रहे सीवर के पानी को रोका जाए। मंत्री की नाराजगी के बाद क्षेत्र में साफ सफाई और वाटर सप्लाई के लीकेज को ठीक करने का काम शुरू किया गया।
मरीजों पर नजर रख रहें हैं
हम लगातार मरीजों पर नजर रख रहें है। आज भी हमारी टीम क्षेत्र में जाकर मरीजों का उपचार करेगी। जरूरत पड़ने पर उन्हें भर्ती भी किया जा रहा है। वाटर सप्लाई में दूषित पानी होने के कारण लोग संक्रमण का शिकार हुए है।
डॉ. मृदूल सक्सैना, सीएमएचओ ग्वालियर

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

users online