शमी के पेड की पूजा करने से होती है देवी-देवताओं की कृपाः डॉ. सिकरवार

ग्वालियर. रक्षाबंधन पर्व के अवसर पर जनउत्थान न्यास के अध्यक्ष, पार्षद एवं भाजपा नेता डॉ. सतीशसिंह सिकरवार ने दशहरा मैदान नाकाचन्द्रवदनी में शमी के पौधे का पौधारोपण किया। डॉ. सिकरवार ने कार्यकर्ताओं को पौधे सुरक्षा व संरक्षण का संकल्प दिलाया। आपको बता दे कि हर वर्ष दशहरा मैदान में दशहरा के दिन सिंधिया परिवार के सदस्य षमी की डाल लगाकर पूजा करते हैं। डॉ. सिकरवार ने शमी का यह पौधा शिवपुरी से मंगवाकर लगाया है। अब हर वर्श शमी के पेड़ का पूजन कर दशहरा मनाया जायेगा। लोगों ने डॉ. सिकरवार के द्वारा किये गये ऐतहासिक कार्य की सराहना करते हुये धन्यवाद ज्ञापित किया।
इस अवसर पर डॉ. सिकरवार ने बताया कि पेड़-पौधे लगाना और इसकी हिफाजत करना हमारी गौरवषाली परंपरा का हिस्सा रहा है। कुछ पेड़ धार्मिक नजरिए से भी बहुत महत्वपूर्ण होते हैं। शमी का वृक्ष भी ऐसे ही वृक्षों में शामिल है। हिंदू सभ्यता में मान्यता है कि कुछ पेड़-पौधों को घर में लगाने से खुशहाली रहती है, शमी का पौधा भी इन्ही पौधे से में एक है। शमी का पौधा लगाने से घर में देवी-देवताओं की कृपा बनी रहती है। आयुर्वेद की नजर में शमी अत्यंत गुणकारी औषधि हैं। डॉ. सिकरवार ने बताया वैसे तो हर पौधा ही अपने आप में कुछ न कुछ खास होता हैं, लेकिन हर पेड़ या पौधे में एक ही बात समान होती है कि वह हमें स्वचछ वातावरण प्रदान करते हैं। इसलिए आज के समय में हमें अधिक से अधिक पौधारोपण करना चाहिए, ताकि हमारी आने वाली पीढियों को स्वच्छ पर्यावरण मिल सके। डॉ. सिकरवार ने वहां मौजूद लोगों से आव्हान किया की वह हर गली मोहल्ले में पौधे ज्यादा से ज्यादा लगाएं और उनकी सुरक्षा करें।

चालू कर दिया गड्डे का मरम्मत कार्य
रक्षाबंधन पर्व पर जब डॉ. सतीश सिंह सिकरवार सुबह-सुबह क्षेत्रीय जनता को रक्षाबंधन की बधाई देने जा रहे थे। तभी डॉ. सिकरवार की नजर जयेन्द्रगंज में बीच सड़क पर हो रहे गहरे गड्डे के कारण लोगों को परेशान होते हुये देखा। डॉ. सिकरवार ने देख कर वहां की क्षेत्रीय जनता ने डॉ. सिकरवार को इस गड्डे से होने वाली परेशानियों से अवगत कराया। डॉ. सिकरवार ने लोगों की परेशानी सुनते ही तुरन्त ही रेत-सीमेन्ट मंगवाकर अपने कार्यकर्ताओं के साथ मरम्मत का कार्य शुरू कर दिया और देखते ही देखते गड्डे की मरम्मत कर दी गई। वहां मौजूद लोगों ने डॉ. सिकरवार के कार्य की सरहाना करते हुये उन्हे धन्यवाद ज्ञापित किया।
इन कार्यक्रमों में डॉ. सिकरवार के साथ चन्द्रप्रकाश गुप्ता, अवधेश कौरव, विजय बहादुर त्यागी, सुरेश प्रजापति, प्रदीप तोमर महेन्द्र शुक्ला, आशीष साहू, अंकित कठठ्ल, रामवरन जाअव आदि मौजूद रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

users online