कांग्रेस सेवादल ने संघ की तारीफ, फौजी अनुशासन वाला संगठन है आरएसएस

भोपाल(भिण्ड). कांग्रेस सेवादल द्वारा जारी प्रेस रिलीज में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) की सराहना की गयी है इसमेंबताया कि संघ फौजी अनुशासन वाला संगठन है। इतना ही नहीं सेवादल ने संघ के संस्थापक डॉ. हेडगेवार को स्वतंत्रता संग्राम में भाग लेने वाला देशभक्त भी बताया गया है। इससे कांग्रेस सहित सेवादल में हड़कम्प मच गया है। प्रेस रिलीज पर विवााद होने के बाद सेवादल के प्रदेश संयोजक ने इसे फर्जी ठहराया है।
प्रेस रिलीज में हेडगेवार की तारीफ
सेवादल के प्रेस रिलीज में डॉ. हेडगेवार के 1921 के असयोग आन्दोलन में भाग लेने और जेल जाने का उल्लेख किया गया है, साथ ही 1928 में साइमन कमीशन के भारत आगमन पर आरएसएस के आन्दोलने करने का भी उल्लेख है। प्रेस रिलीज के अनुसार आरएसएस ने आजादी की लड़ाई में भाग लिया था। यह प्रेस रिलीज ऐसे समय में सामने आया है जब कांग्रेस सेवादल का राष्ट्रीय कैम्प भिण्ड में सोमवार से प्रारंभ किया गया है। यह कैम्प 31 अगस्त तक जारी रहेगा। संगठन के राष्ट्रीय अध्यक्ष लालजी भाई देसाई 28 अगस्त को कैम्प का शुभारंभ करेंगे। इसमें प्रदेश कांग्रेस के दिग्गज नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया, दिग्विजय सिंह और कमलनाथ भी हिस्सा लेंगे।
एफआईआर करायेगी सेवादल
कंग्रेस सेवादल के प्रदेश संयोजक योगेश यादव ने बताया कि सेवादल का अपना अनुशासन है, इससे बीजेपी और आरएसएस बौखलाई हुई है। इसलिये सेवादल के नाम से फर्जी प्रेस रिलीज किया गया है। कांग्रेस इसकी एफआईआर करायेगी।
सेवादल 1923 में बना था
झंडा सत्याग्रह के दौरान 1921 में नारायण सुब्बाराव हार्डिकर और उनके मित्रों के साथ राष्ट्र सेवा मंडल बनाया था। आंदोलन के दौरान उन्हें लगा कि कार्यकर्ताओं को प्रशिक्षण देने की जरूरत है। हार्डिकर ने नागपुर सेंट्रल जेल में रहते हुए एक ऐसा संगठन बनाने का निश्चय किया जो कांग्रेस कार्यकर्ताओं को प्रशिक्षित कर उनमें फौजी अनुशासन और लड़ने का माद्दा पैदा कर सके। हार्डिकर जेल से बाहर आने के बाद इलाहाबाद जाकर नेहरूजी से मिले और सत्य व अहिंसा के मार्ग पर चलने वाले लड़ाका संगठन की स्थापना पर चर्चा हुई। इसके बाद 1923 में कर्नाटक में आयोजित कांग्रेस सम्मेलन में सरोजनी नायडू ने हिंदुस्तानी सेवादल बनाने का प्रस्ताव रखा। इसके पहले चेयरमैन नेहरू बनाए गए। इसी संगठन को बाद में कांग्रेस सेवादल के रूप में जाना गया।

पहले दीपक बावरिया भी कर चुके हैं आरएसएस की तारीफ
इससे पहले मप्र कांग्रेस के प्रभारी और वरिष्ठ नेता दीपक बावरिया ने भी आरएसएस की तारीफ की थी और दीपक बावरिया ने कहा था कि कांग्रेस कार्यकर्त्ताओं को आरएसएस से अनुशासन सीखना चाहिये। उन्होंने कहा था कि आरएसएस के अच्छे पहुलओं की तारीफ करने में कोई संकोच नहीं है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

users online