सत्यम का शव में नहर में फंसा मिला, पुलिस ने राहुल को दबोचा

ग्वालियर. 6 दिन पूर्व कोचिंग जाते वक्त अपहरण हुए 10वीं के छात्र सत्यम जादौन आयु 15 की हत्या की गयी है अपहरणकर्त्ताओं ने उसे अपहरण करने कुछ घंटे बाद ही जौरा, मुरैना लेकर नहर में फेंक दिया था। हत्यारा सत्यम का रिश्तेदार राहुल उर्फ विवेक जादौन और उसका भांजा सुमित है।
छोनों 4 जनवरी की राहत को सत्यम के घर ही ठहरे हुए हत्या का प्लान विवेक ने बनाया क्योंकि उसे शक था कि सत्यम उसके राज खोलकर बदनाम कर सकता है, शक नहीं इस लिये हत्यारा सत्यम के परिवार के साथ मिलकर उसे तलाशने का नाटक कर रहा था उन लोगों परद सत्यम को अपहरण का दोषी ठहराने की फिराक में था जिनसे उसकी दुश्मनी रही है हत्या की असली वजह को लेकर पुलिस फिलहाल शांत है।
क्या है पूरा मामला
गोवर्धन कॉलोनी 5 जनवरी की सुबह जयपाल जादौन के बेटे सत्यम का शव 6 दिन बाद जौरा की नहर में मिल गया है। सत्यम जिंदा नहीं है खुलासा हत्यारे विवेक जादौन ने बुधवार रात को ही गोला का मंदिर पुलिस से किया था। इंट्रोगेशन में हत्यारे ने बताया कि सत्यम को मारने में उसके साथ भांजा सुमित भी शामिल था। सत्यम को इसलिए मारा क्योंकि वह उसके चरित्र के बारे में राज जान चुका था। उनका खुलासा करने पर वह बदनाम हो सकता था। इसलिए प्लानिंग से उसे अगवा कर हत्या की। रिश्ते के मौसा जयपाल जादौन इंदौर में नौकरी करते हैं। यहां उनकी पत्नी नीतू बेटे शिवम और सत्यम के साथ अकेली रहती है। परिवार की देखभाल के बहाने विवेक अक्सर आता रहता था।

कॉल डिटेल से हुआ खुलासा
सत्यम की हत्या में विवेक उर्फ राहुल शामिल था इसका खुलासा सत्यम की कॉल डिटेल से हुआ उसमें सत्यम की सबसे अधिक बातचीत विवेक से ही होना सामने आई है। हत्यारे का पता था कि पुलिस मोबाइल लोकेशन से सत्यम को ढूढेंगी, इसलिये उसने 4 जनवरी की रात को सत्यम के घर आकर उसका मोबाइल फोन स्विच ऑफ कर दिया था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

users online