बेहतर व्यवस्थायें, क्वालिटी से समझौता मत करो तभी बनेगी अलग पहचान- टीपी सिंह

ग्वालियर. कोई भी इंडस्ट्री दो कारणों से फेल होती है। पहली या तो वहां व्यवस्थाएं बेहतर नहीं है या फिर उन्होंने क्वालिटी के साथ समझौता कर लिया हो इसलिए कभी इन दोनों बातों का अनुसरण नहीं करना चाहिए। नॉर्थ वेस्ट जोन के अंतर्गत आने वाले रेलवे स्टेशनों की स्थिति पहले काफी खराब थी इसलिए हमने सबसे पहले 15 रेलवे स्टेशनों की सूची बनाई। इनमें जयपुर, अजमेर सहित अन्य स्टेशनों को शामिल किया इसके बाद वहां की समस्याएं समझी। इसके बाद जो वहां व्यवस्थाएं थी उनको दुरूस्त किया और क्वालिटी में कोई समझौता नहीं करने की साफ हिदायत दी जिसकी बदौलत अब इन स्टेशनों की स्थिति बेहतर हो गई है। यही नियम इंडस्ट्र और स्टूडेंट्स पर लागू होता है।
यह बात नॉर्थ वेस्ट रेलवे के जीएम टीपी सिंह ने शुक्रवार को आयोजित समारोह में कहीं। वह ट्रिपल आईटीएम में क्वालिटी सर्कल फोरम ऑफ इंडिया (क्यूसीएफआई) के ग्वालियर चैप्टर की ओर से आयोजित नेशनल कन्वेंशन में बतौर मुख्य अतिथि संबोधित कर रहे थे। इग्नाइटिंग माइंड फॉर इनोवेशन टू क्वालिटी कॉन्सेप्ट पर आधारित इस कन्वेशन में क्यूसीएफआई के प्रेसिडेंट एसजे कलाओके, ट्रिपल आईटीएम के डायरेक्टर एसजी देशमुख, एक्जीक्यूटिव डायरेक्टर डॉ. डीके श्रीवास्तव, ग्वालियर चैप्टर के चेयरमैन संजय बिंदल, डॉयरेक्टर अविनाश मिश्रा मौजूद रहे।
सभी सदस्यों से लें आइडिया
कार्यक्रम के विशिष्ट अतिथि श्रमिक शिक्षा बोर्ड के चेयरमैन एचजे पांड्य ने कहा किसी भी क्वालिटी में सुधार के लिए एक छोटा सा आइडिया भी बहुत काम आता है। किसी भी काम में सभी लोगों की सहभागिता होना चाहिए क्योंकि सभी लोगों में योग्यता है और उससे ही बेहतर आइडिया मिलते है। कार्यक्रम में डायरेक्टर अविनाश मिश्रा ने कहा कि एक ग्रुप में क्वालिटी लाने के लिए यह चीजें बहुत जरूरी है। इसमें कायदा नहीं व्यवस्था होना चाहिए। इसी प्रकार ग्रुप में सूचना नहीं समझ, कानून नहीं अनुशासन, आग्रह नहीं आदर, भय नहीं भरोसा, अर्पण नहीं समर्पण होना चाहिए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

users online