सिख विरोधी दंगों के मामले में सज्जन कुमार सहित 4 दोषियों को उम्रकैद

नई दिल्ली. वर्ष 1984 सिख विरोधी दंगों के मामले में कांग्रेस नेता सज्जन कुमार को दोषी ठहराया गया है। हाईकोर्ट ने निचली अदालत के फैसले को पलटते हुए सज्जन कुमार को सिख दंगा के मामले में दोषी ठहराया है। जानकारी के अनुसार सज्जन कुमार को हाईकोर्ट ने उम्रकैद की सजा सुनाई है और 31 दिसंबर तक सज्जन कुमार को आत्मसमर्पण करना होगा। दिल्ली हाईकोर्ट ने निचली अदालत का फैसला पलटते हुए सज्जन कुमार को दिल्ली कैंट इलाके में 5 लोगों की हत्या के मामले में आपराधिक साजिश और भीड़ को उकसाने का दोषी पाया गया है। कोर्ट ने फैसला सुनाते हुए कहा साल 1947 के विभाजन के दौरान सैंकड़ों लोगों का नरसंहार हुआ था 37 वर्ष के बाद दिल्ली में वैसा ही मंजर दिखा। आरोपी राजनीतिक संरक्षण के चलते ट्रायल से बचते रहे।
दलीलें सुनने का काम पूरा करने के बाद फैसला सुरक्षित रखा था
न्यायमूर्ति एस मुरलीधर और न्यायमूर्ति विनोद गोयल की पीठ ने 29 अक्टूबर को सीबीआई दंगा पीडि़तों और दोषियों द्वारा दायर अपीलों पर दलीलें सुनने का काम पूरा करने के बाद फैसला सुरक्षित रखा था इसके बाद आज सोमवार को न्यायमूर्ति ने इस मामले में अपना फैसला सुना दिया।
दिल्ली हाईकोर्ट ने कहा सज्जन कुमार ताउम्र जेल में रहेंगे
दिल्ली हाईकोर्ट ने कहा कि कांग्रेस नेता सज्जन कुमार ताउम्र जेल में रहेंगे। दिल्ली हाईकोर्ट ने सज्जन कुमार पर फैसला सुनाते हुए कहा कि सत्य की जीत होगी और न्याय होगा। दिल्ली हाईकोर्ट ने कांग्रेस नेता सज्जन कुमार को आपराधिक षड्यंत्र रचने, शत्रुता को बढ़ावा देने, सांप्रदायिक सद्भावना के खिलाफ कृत्य करने का दोषी ठहराया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

users online