पहले चक्काजाम फिर 6 गाडि़यां के कांच फोड़े और फिर पथराव, पुलिस ने आंसू गैस छोड़कर किया लाठीचार्ज

ग्वालियर. किले कि तलहटी में शनिवार को बरामद हुल शव की पहचान 8 दिन से लापता हजीरा निवासी 10 वर्षीय अभिषेक राठौर के रूप में हुई । घ्टाना से आक्रोशित परिजन व उनके परिचितों ने रविवार की शाम 5.30 बजे यातायात जाम कर दिया। परिजन बच्चे के शव को लेकर मल्लगढ़ा तिराहे परद बैठ गये। उनका आरोप था कि पुलिस ने संदेही पर सख्ती नहीं की, इस लिये ऐसा हो गया। परिजन ने हजीरा थाने के पूरे स्टाफ को निलंबित करने कीमांग की। एक घंटे बाद भी जब यह लोग सड़क से नहीं हटे तो पुलिस ने उन्हें जबरदस्ती हटाने का प्रयास किया। इससे आक्रोशित हुए लोगों ने वहां खड़ी बस, ट्रक समेत 6 गाडि़यों के मांच तोड़ दिये और वाहनों में आग लगाने की कोशिश की। गुस्सायें लोगों पुलिस पर जमकर पथराव किया। जबाव में पुलिस ने लाठियां चलाकर लोगों को खदेड़ा और अश्रुगैस चलाई। पुलिस की सख्ती के बाद भगदड़ मच गयी इस दौरान बच्चे के पितपा समेत 4 लोगा घायल भी हो गये। इन्हें हल्की चोटें आई हैं। उपद्रव के बाद कांग्रेस नेता प्रद्युम्नसिंह तोमर और सुनील शर्मा ने मृतक के घर पहुंचकर 10-10 हजार रूपये बच्चे के परिजन को दिये। जिला प्रशासन ने भी 10 हजार दिये।
ऐसे बिगड़े हालात
शाम 5.30 बजे परिजन ने अभिषेक का शव सड़क परद रखकर ट्रैफिक जाम कर दिया और पुलिस व प्रशासन केखिलाफ नारेबाजी की। यहां पहुंचे एएसपी अमन राठौर, एएसपी सतेन्द्र तोमर, सीएसपी मुनीष राजौरिया व अन्य पुलिस अधिकारियों से प्रदर्शनकारियों की तीखी बहस हुई।
6.30 बजे पुलिस अधिकारियों ने कहा कि सिर्फ परिजन ही बात करने के लिये रूके, बाकी लोग यहां से चले । पुलिस ने लोगों को खदेड़ा तो विरोध होने लगा। इसी बीच पुलिस ने ट्रैफिक खुलवा दिया। 6.40 बजे ट्रैफिक खुला तो आक्रोशित लोगों ने गाडि़या तोड़ना शुरू कर दी और फिर पथराव और गाडि़यां तोड़ना शुरू कर दी पुलिस लाठी चलाई और अश्रुगैस के 13 गोले छोड़े लगभग 15 मिनट तक पथराव चला । रात 9 बजे तक क्षेत्र में पुलिस बल अलर्ट पर था।
अखबार की खबर पढ़कर पहुंचे परिजन पीएम
अभिषेक के पिता रामनिवास ने बताया कि शनिवार को किला तलहटी में शव मिला। पुलिस कन्ट्रोल रूम से सभी थानों को सूचना दी गयी जो भी क्षेत्र में लापता हैं, उनके परिजन को सूचना दी जाये। लेकिन हजीरा पुलिस ने हमें सूचना नहीं । अखबार में खबर पढ़कर हम पीएम हाउस पहुंचे। यहां कपड़ों से अभिषेक की पहचान हुई।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

users online