डीटीसी बसों का किराया बढ़ाने की तैयारी, बोर्ड ने प्रस्ताव मांगा

दिल्ली में डीटीसी बसों का किराया बढ़ाने की तैयारी है। परिवहन मंत्री की अध्यक्षता वाले डीटीसी बोर्ड ने इस पर सहमति जताते हुए डीटीसी प्रबंधन को प्रस्ताव भेजने का निर्देश दिया है। डीटीसी बसों का किराया आखिरी बार 2009 में बढ़ा था। तब से खर्च बढ़ता गया मगर किराया नहीं बढ़ा।

डीटीसी के पेंशनधारकों को सातवें वेतन आयोग के हिसाब से भत्ते देने पर चर्चा के दौरान वित्त सचिव रेनू शर्मा ने यह मुद्दा उठाया। उन्होंने कहा कि खर्च बढ़ रहा है, उसके हिसाब से राजस्व नहीं मिल पा रहा। डीटीसी को किराया बढ़ाने के साथ संपत्तियों, बस टर्मिनल और अन्य माध्यमों से राजस्व बढ़ाना चाहिए। इसके लिए परिवहन विभाग की निगरानी में कमेटी का गठन किया जाए।

उनके सुझावों पर डीटीसी बोर्ड ने सहमति जताई। डीटीसी बोर्ड के अध्यक्ष खुद दिल्ली सरकार के परिवहन मंत्री कैलाश गहलोत हैं। बोर्ड ने किराया बढ़ाने समेत अन्य माध्यम से राजस्व बढ़ाने के लिए डीटीसी को प्रस्ताव बनाकर प्रशासन विभाग को भेजने के लिए कहा है। इसके बाद कमेटी का गठन किया जाएगा।

अभी पांच रुपये न्यूनतम किराया

डीटीसी बसों में तीन स्लैब में किराया लगता है। सामान्य बसों में न्यूनतम किराया पांच, उसके बाद 10 रुपये और अधिकतम 15 रुपये है। वहीं वातानुकूलित बसों में न्यूनतम किराया 10 रुपये, उसके बाद 15और अधिकतम 25 रुपये है। वर्ष 2009 में न्यूनतम किराया तीन, पांच और सात रुपये था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

users online