राजमाता, अटलबिहारी बाजपेयी और कुशाभाऊ ठाकरे कर्मभूमि ग्वालियर को नमन करता हूं-नरेन्द्र मोदी

ग्वालियर. 2014 में हम लोकसभा का चुनाव रहे थे तभी मेरा ग्वालियर भी आना हुआ और मैं स्वयं भाजपा ने मुझे पीएम पद का उम्मीदवार घोषित किया था मैं मेरे लिये आपके बीच आया था लेकिन उस समय इससे आधे लोग भी नहीं आये थे और आज मैं यह देखकर हैरान हूं जब उन्होंने हमारे नरेन्द्र जी ने सबके मोबाइल की फ्लैश जलवायी मेरी नजर नहीं पहुंच रही थी इतनी बड़ी तादाद में आना आप लोगों का आना यह हमारे सभी साथियों को आर्शीवाद देने के लिये यह ग्वालियर के इलाके लोगों का इतना बड़ा जमावड़ा भाई बहनों दिल्ली में बैठे पंडितों को पता चल जायेगा कि हवा का रूख किस ओर हैं।
भाई बहनों ग्वालियर की धरती तप, तपस्या और त्याग की धरती है ऋषि गालव की तपो भूमि और यह शौर्य की प्रेरणा देने वाली धरती है रानी लक्ष्मीबाई हो तात्याटोपे हो रामप्रकाश बिस्मिल हो एक से एक बढ़कर यह क्रान्तिदूतों की कर्मस्थली रही है। मैं इस धरती को नमन करता हूं। यह विचार पीएम बनने पर पहली बार मुख्यअतिथि के रूप में मप्र विधानसभा चुनाव में भाजपा प्रत्याशियों के समर्थन में वोट देने के अवसर पर जनसभा को संबोधित करते नरेन्द्र मोदी ने कहीं।
3 बजे रात को राजमाता जी मुझे गर्म दूध पिलाया था
हम भाजपा के लिये विशेष विरासत भी इस धरती से जुड़ी हुई है राजमाता से लोकमाता से बनी हुई राजमाता विजयाराजे सिंधिया भी मां की तरह हम जैसे अनेक कार्यकर्त्ताओं को संबल दिया मां का अभूतपूर्व प्यार, जब मैं 1990 के दशक में एकता यात्रा लेकर चला था शिवपुरी में रात 9 बजे आने के बजाय 2 बजे पहुंचे कार्यक्रम पूरा कर जल्दी जल्दी मैं नहाकर में सोने का प्रबंध कर थे इतने में मैरे दरवाजे पर आवाज आयी मैंेंने हैरान था कि रात को 2-2.30 बजे इतनी रात को कौन आया जब दरवाजा खोला तो स्वयं राजमाता जी अपने साथ 3-4 साथियों को लेकर साथ हाथ मैं एक ट्रै में गरम गरम दूध के गिलास लेकर आयी थी और कहने लगी पहले रात को बेटा दूध पीकर सो जाना, कोई कल्पना कर सकता है कि राजपरिवार में पली बढ़ी एक मां अपना एक छोटा सा कार्यकर्त्ता और वह भी रात को 3 बजे से गर्म दूधे पिलाने आये और सिर्फ मुझे ही नहीं हमारे एकता यात्रा ड्रायवर, साथी, कार्यकर्त्ता जो भी थे हरेक के कमरंे में जाकर उस मां ने दूध का कटोरा उनके हाथ में पकडाया यह प्यार जिस मां ने दिया।
राजमाता की जन्मशती मना रहे इस समय आना मेरा सौभाग्य
आज हम भाजपा के लोग हम इस देश के नागरिक राजमाता की शताब्दी का जन्मशती का वर्ष मना रहे और ऐसे समय में मेरा ग्वालियर की धरती पर आना राजमाता का पूण्य स्मरण करना और उनको आदरपूर्वक नमन करना यह अपने बहुत बड़ा सौभाग्य है। ग्वालियर की धरती पर आये और यहां की हर दीवार से हर गली से हर चौराहे से हर पेड पौधे से जो आवाज बार बार गूंज कर निकलती है वह आवाज अटलबिहारी बाजपेयी की है इसी धरती से उनकी जीभा पर से बह रही मां सरस्वती से ग्वालियर का बच्चा बच्चा परिचित रहा यही धरती कभी कुशाभाऊ ठाकरे की कमभूमि रहीं सादगी, त्याग, तपस्या कर्मणता समर्पण सब चीजें एक जगह पर समेटे हुए यानी कि कुशाभाऊ ठाकरे, राजमाता जी हो अटलबिहारी जी हो कुशाभाऊ ठाकरे हो ग्वालियर धरती पर इन सभी महापुरूषों का पुण्य स्मरण होना बहुत स्वाभाविक हो और इसलिये सबसे पहले हमारे उन महापुरूषों को उनकी संकल्पभूमि उनकी कर्मभूमि को नमन करते हुए इस धरती के लोगों से आर्शीवाद मांगने आया हूं मेरे साथियों के लिये आर्शीवाद मांगने आया हूं।
बेगुनाह राजमाता को अपातकाल में 19 माह जेल में बन्द रखा था कांग्रेस
मुझे विश्वास है भाईयों बहनों यह ग्वालियर की ताकत है राजमाता को लोकमाता बना देता है यह ग्वालियर की ताकत है और जब राजमाता की याद आती है तो हम आपातकाल के दिनों हम कैसे भूल सकते हैं मैं जरा कांग्रेस के नेताओं से पूछना चाहता हूं और राजमाता के परिवार के जो लोग कांग्रेस में हैं उनको भी पूछना चाहता हूं विशेष रूप से पूछना चाहता हूं ग्वालियर की जनता के नाम ग्वालियर की आवाज उठाना चाहता हूं जरा बताईये इमरजेंसी के समय अपातकाल के समय कांग्रेस सरकार ने जिस कांग्रेस का आज झण्डा लेकर घूम रहे हैं राजमाता जी किस गुनाह की सजा के तहत 19 महीने तक जेल में बन्द कर दिया था अगर आप में हिम्मत हैं आप अपनी पार्टी के कर्ताधर्त्ता लोगों से पूछने की हिम्मत करों कि आपकी दादी मां को 19 महीने तक जेल में क्यों पीडित किया गया था क्या गुनाह था उनका क्यों यातनाये ंदी गयी थी। अगर वह निर्दोष थी तो कांग्रेस पार्टी ने यह पाप क्यों किया था उस प्रकार उस सरकार ने लोकतंत्र के पर गला घोंटने का काम क्यों किया था मेरे प्यारे बहनों भाईयों यह कांग्रेस पार्टी की परंपरा रही है।
कांग्रेस एक परिवार की पार्टी है
मैं नही ंतो कोई नहीं यही एक सूत्र कांग्रेस पार्टी का जीवन मंत्र रहा है इस देश में मिलीजुली सरकारें अगर बनी और कांग्रेस के समर्थन से दो महीने चार महीने छ महीने सालभर पींठ में छुरा घोंपकर के देश को अस्थिर करते समय उनको देश के नुकसान कभी चिन्ता नहीं रही क्यों कि कांग्रेस पार्टी एक परिवार के लिये पैदा हुई एक परिवार जीती है एक परिवार जूझती है और एक परिवार के लिये देश का भविष्य भी दावं पर लगा देती है क्या भाईयों बहनों मप्र का भाग्य ऐसी कांग्रेस के हाथ में दे सकते हैैं कांग्रेस पार्टी फिर से प्रवेश दे सकते हैं मप्र की विकास यात्रा में रूकावट पैदा करने देंगे क्या उंन तत्वों को घुसने देंगे क्या, जिसके भी दिल अपने बच्चों के भविष्य की चिंता है वह अपने बेटे बेटियों के भविष्य की चिन्ता है वह 50 बार सोंचे आपने कि आपने जिस बर्बादी को भुगता है आपकी जवानी कांग्रेस के कालखंड में बीती है आप तो बर्बाद हो चुके क्या आपने बेटे बेटियों का भविष्य बर्बाद होने देना चाहते उनका भविष्य अंधकार में जाना देना चाहते हैं उनके भविष्य को बर्बाद होना देना चाहते हैं अगर नही ंचाहते है तो अब यही संकल्प करके उठिये अब हिन्दुस्तान में कहीं पर नहीं मप्र में कहीं पर नहीं, ग्वालियर हो भिण्ड हो मुरैना हो कोई भी इलाकों कांग्रेस को पैर नहीं रखनें देंगे हमने निर्णय करना हें।
गरीबों को घर देने में नम्बर वन है मप्र
पूरे हिन्दुस्तान में मप्र का ग्रामीण इलाका गरीबों को घर देने में मप्र का नम्बर वन है ग्रामीण इलाका दतिया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

users online