कुलसचिव डॉ आनंद मिश्रा को जीवाजी विश्वविद्यालय से हटाकर इन्दौर भेजा

भोपाल. जीवाजी विश्वविद्यालय, ग्वालियर के कुलसचिव आनंद मिश्रा को मुख्य निर्वाचन कार्यालय के निर्देश पर शुक्रवार की शाम को हटाकर इन्दौर संभागायुक्त कार्यालय में अटैच कर दिया है। आपको बता दें कि कांग्रेस नेता राजेन्द्र भारती ने दतिया में राजनीतिक गतिविधियों में हिस्सा लेने की शिकायत की थी जो जांच में सही पायी गयी है। कलेक्टर की रिपोर्ट को आधार मानकर मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी वीएल कांताराव ने शासन को कार्यवाही करने के लिये कहा था। आनंद मिश्रा शिवराज सरकार के वरिष्ठ मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्रा के बड़े भाई हैं।
आरोप है कि -कुरथरा में भाजपा की बैठक में मौजूद थे
मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी कार्यालय के अधिकारियों ने बताया कि राजेन्द्र भारती ने जीवाजी विश्वविद्यालय के कुलसचिव आनंद मिश्रा के राजनीतिक गतिविधियों में संलिप्त रहने की शिकायत की थी और उन्होंने आरोप लगाया था िकवह 26 अक्टूबर को कुरथरा में आयोजित भाजपा कार्यकर्त्ताओं की बैठक में मौजूद थे।

शासकीय सेवा में होने के बावजूद डॉ. आनंद मिश्रा शनिवार और रविवार को दतिया विधानसभा क्षेत्र में रहकर अपने भाई के पक्ष में कार्य करते हैं। शिकायत के साथ ही राजेन्द्र भारती ने कुछ प्रमाण भी दिये थें। दतिया कलेक्टर ने मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी कार्यालय को जो रिपोर्ट भेजी है, उसमें शिकायत को सही पाया गया है। मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी ने उच्च शिक्षा विभाग को कलेक्टर की जांच के आधार पर डॉ. आनंद मिश्रा के खिलाफ आचार संहिता का उल्लघन करने पर अनुशासनात्मक कार्यवाही कर स्थानान्तरण करने के निर्देश दिये थे।
विभाग ने देर शाम मिश्रा का तबादला संभागायुक्त इंदौर कार्यालय में कर दिया। उन्हें शनिवार को आमद देने और पालन प्रतिवेदन प्रस्तुत करने के लिए कहा गया है। साथ ही मिश्रा किसी भी प्रकार के अवकाश पर शासन की अनुमति के बिना नहीं जा पाएंगे। यदि आदेश का पालन नहीं किया जाता है तो अनुशासनात्मक कार्रवाई की जाएगी। वहींए बालाघाट जिला प्रशासन ने कृषि मंत्री गौरीशंकर बिसेन के सोशल मीडिया में वायरल हुए वीडियो की जांच रिपोर्ट अभी नहीं भेजी है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

users online