दुबई में महंगी प्रॉपर्टी खरीदने वाले 7500 भारतीयों के खिलाफ इनकम टैक्स ने जांच शुरू की

नई दिल्ली. इनकम टैक्स ने दुबई में महंगी प्रॉपर्टी खरीदने वाले 7500 इनकम टैक्स ने जांच शुरू की विभाग की खुफिया और आपराधिक शाखा ने उन भारतीयों को डेटा निकला है जिन्होंने पिछले कुछ सालों में दुबई के रियल एस्टेट में निवेश किया। इस बात का भी पता लगाया जा रहा है कि इस निवेश के फंड का सोर्स क्या रहा और क्या इन लोगों ने आयकर विभाग को जानकारी दी?
3 माह में 6006 करोड़ रुपए का निवेश
इंडियन एक्सप्रेस ने दुबई लैंड डेवलपमेंट के हवाले से बताया कि साल के शुरूआती 3 महीनों में कम से कम 1387 भारतीयों ने दुबई में 6006 करोड़ रुपए (3 बिलियन दिरहम) का निवेश किया। वहीं 2017 में भारतीयों ने 31221 करोड़ (15.6 बिलियन दिरहम) का निवेश किया।
दुबई लैंड डेवलपमेंट के अनुसार 2013 से 2017 के बीच भारतीयों ने करीब 1.67 लाख करोड़ रुपए (83.65 बिलियन दिरहम) की प्रॉपर्टी खरीदी। भारतीय कानून के अनुसार दुबई में प्रॉपर्टी खरीदना गैर कानूनी नहीं है। फॉरेन एक्सचेंज मैनेजमेंट एक्ट 1999 के अनुसार भारतीय प्रवासी और अप्रवासी विदेश में अचल संपत्ति खरीद सकता है। इ
रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया के नियमों के अनुसार एक नागरिक विदेश प्रॉपर्टीज और सिक्युरिटीज में वार्षिक 250000 डॉलर का निवेश कर सकता है। हालांकि नियमों के अनुसार ऐसे व्यक्ति को आईटी रिटर्न्स में विदेश संपत्ति को घोषित करना होगा।
काला धन रोकथाम अधिनियम के तहत अघोषित विदेशी आय और संपत्ति पर 30 प्रतिशत टैक्स लगता है। रिटर्न्स में डिसक्लोज नहीं करने पर आपराधिक केस तो बनता ही है साथ ही 3000 प्रतिशत जुर्माने का भी प्रावधान है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

users online