व्यापमं आरोपी डॉ. मनीषा शर्मा की लखनऊ में की आत्महत्या

लखनऊ. मप्र के व्यापमं घोटाले में आरोपित रहीं डॉ. मनीषा शर्मा ने सोमवार की दोपहर 1.30 बजे लखनऊ में इलाज के दौरान दम तोड़ दिया। वह लखनऊ के केजीएमयू के क्वीन मैरी अस्पताल में एमएस अंतिम वर्ष की छात्रा थी। शनिवार की रात 8 बजे बुद्ध हॉस्टल में उसने बेहोशी में दिए जाने वाले इंजेक्शन का हाईडोज लिया था। व्यापमं घोटाले में जमानत मिलने के बाद उसने कोर्ट के आदेश पर केजीएमयू में एमएस कोर्स में 2015 में दाखिला लिया था।
डॉ. मनीषा की मौत के बाद बड़ी बहन दीपा शर्मा ने न्यूरो सर्जरी विभाग के सीनियर रेजीडेंट डॉ. उधम सिंह पर आरोप लगाया है कि उनकी वजह से बहन की मौत हो गई। आरोप है कि सीनियर डॉक्टर उनकी बहन से छेड़छाड़ करता था। दीपा ने डॉ. उधम सिंह के खिलाफ आत्महत्या के लिए प्रेरित करने और उत्पीड़न का मुकदमा भी दर्ज करवाया है। मंगलवार से उसके इम्तिहान शुरू होने वाले थे और वह 15 दिन बाद एमएस की डिग्री हासिल कर लेती।
2015 में व्यापमं घोटाले में आया था नाम
डॉ. मनीषा शर्मा की आत्महत्या ने कई सवाल खड़े कर दिए हैं। मनीषा का नाम व्यापमं घोटाले में 2015 में आया था। मनीषा पर 2008, 2009 में दो छात्राओं के नाम पर व्यापमं की परीक्षा देने का आरोप था। आत्महत्या को लेकर पुलिस भी अलर्ट हो गई है। मूलरूप से कानपुर निवासी रमेश चंद्र विद्यार्थी की बेटी मनीषा ने अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय से एमबीबीएस किया था। घोटाले की जांच के दौरान एसआईटी ने ग्वालियर से मनीषा को गिरफ्तार किया था। वह 6 माह तक मप्र की जेल में थी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

users online