ऑर्डिनेंस फैक्ट्री-एके 47 राइफल सप्लायर पटना में होटल से अरेस्ट

पटना. मप्र की जबलपुर ऑर्डिनेंस फैक्ट्री की डिपो से एके 47 राइफल की तस्करी मामले की जांच में जुटी पुलिस ने करने वाले हथियारों के सौदागर मंजर आलम उर्फ मंजीत को पटना पुलिस ने अरेस्ट कर लिया। पटना पुलिस की विशेष टीम ने उसे पूर्वी बोरिंग कैनाल रोड स्थित एक होटल के पास जी. मेडिको लेन से धर दबोचा। पिछले 2 दिनों से उसके कोर्ट में समर्पण करने चर्चा भी थी।
मुंगेर के मुफस्सिल थाने के बरधा गांव निवासी मंजर के पास से एक पिस्टल और 6 कारतूस बरामद किए गए। पिछले दिनों उसके गांव बरदह में 20 एके 47 और एके 47 बनाने के पार्ट्स बरामद होने के बाद बिहार पुलिस खुफिया विभाग चौकन्ना गए थे। मंजर को मुंगेर पुलिस के साथ ही एनआईए व अन्य एजेंसियां तलाश रही थीं। एके 47 के मुंगेर से बरामद होने की जांच एनआईए भी कर रही है।
बिहार पुलिस ने इस मामले में शेखपुरा और गया में छापेमारी कर वहां से भी 2 हथियार तस्करों को अरेस्ट किया है। पुलिस को पूछताछ के दौरान अहम जानकारियां मिली हैं। उनसे पता चला है कि जबलपुर से तस्करी कर लाई गईं एके 47 राइफलों में से 20 राइफलें अकेले मुंगेर के ही अपराधियों को बेची गई हैं।
बिहार पुलिस के सुत्रों के अनुसार मंजर उर्फ मंजी खान के साले मोनाजिर से पूछताछ में मिली जानकारी के आधार पर शेखपुरा के चेवड़ा में छापेमारी कर उप्र के मऊ जिला अंतर्गत हलदरपुर थाने के जगदीशपुर निवासी आकाश को गिरफ्तार किया गया था। मंजर से संपर्क रहने के कारण वह हथियार की तस्करी का व्यापार भी करता था। मंजर पुलिस से बचने के लिए 15 से 16 सितंबर और 20 से 25 सितंबर तक उसी के पास छिपा हुआ था।
मंजर किसी आकाश नाम के व्यक्ति के नाम से रजिस्टर्ड सिम उपयोग कर रहा था। पुलिस ने आकाश को गिरफ्तार कर लिया। उसने पुलिस को बताया कि मंजर उसके पास आया था। इस समय मंजर हथियार तस्कर राजीव रंजन के साथ है। इसके बाद पुलिस ने राजीव रंजन को गिरफ्तार कर लिया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

users online