भूकंप और सुनामी के बाद अभी तक 832 लोगों की मौत

जकार्ता. इंडोनेशिया में भूकंप और उसके बाद आई सुनामी में मरने वालों की तादाद लगभग 832 तक पहुंच गई। सबसे ज्यादा नुकसान सुलावेसी द्वीप के पालू और दोंगला शहर में हुआ। यहां लगभग 10 से 17 फीट तक ऊंची समुद्री लहरों में लोग बह गए। हजारों इमारतें ढह गयी और इनके मलबे में सैकड़ों लोग फंसे हैं। इन लोगों को निकालने की कोशिश की जा रही है। शुक्रवार को रिक्टर पैमाने पर भूकंप की तीव्रता 7.5 मापी गयी थी। भूकंप का केंद्र दोंगला से 56 किमी दूरी जमीन से 10 किमी नीचे था।
आपदा एजेंसी की लापरवाही से बचने का मौका नहीं मिला
इतनी बड़ी संख्या में लोगो की मौत के पीछे आपादा एजेंसी बीएमकेजी की लापरवाही भी है। एजेंसी ने पहली बार भूकंप आने पर सुनामी की चेतावनी जारी की थी लेकिन 34 मिनट बाद ही इसे वापिस ले लिया। इसके बाद 7.5 तीव्रता के 2 भूकंप और आए। 3 घंटे के भीतर ही पालू और दोंगला में सुनामी आ गई। चेतावनी वापिस लेने की कारण से लोग सुरक्षित जगहो पर नहीं पहुंच पाए। पालू के बीच पर शुक्रवार की शाम को फेस्टिवल चल रहा था। पालू में लगभग 3.80 लाख लोगों पर असर पड़ा है। दोंगला भी लगभग लगभग तबाह हो गया है। अस्पताल भर गए हैं और खुले में भी लोगों का इलाज किया जा रहा है।
कई परिवार लापता
इंडोनेशिया की डिजास्टर एजेंसी के प्रवक्ता सुतोपो पुरवो ने बताया कि ऊंची लहरों की वजह से कई घरों को नुकसान पहुंचा और कई परिवार अभी भी लापता हैं। सुतोपो ने कहा कि सुलावेसी में कई इलाकों का संपर्क टूट गया है। अंधेरे की वजह से राहत और बचाव कार्य में मुश्किलें आईं। पालू एयरपोर्ट बंद हो जाने से इंडोनेशियाई सेना को मदद पहुंचाने में दक्कत हो रही है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

users online