कमजोर वर्गों से संबंधित शिकायतों का शीघ्रता से करें निराकरणः डीआईजी

ग्वालियर ‘‘कमजोर वर्गों के प्रति संवेदनशीलता’’ विषय पर रेंज स्तरीय दो दिवसीय सेमीनार का आयोजन किया गया। इस सेमीनार का शुभारंभ प्रातः 10ः30 बजे मुख्य अतिथि डीआईजी अशोक गोयल द्वारा मां सरस्वती की प्रतिमा पर पुष्प एवं दीप प्रज्वलित कर किया। कार्यक्रम की अध्यक्षता अजाक एसपी आलोक कुमार सिंह, द्वारा की गई तथा विशिष्ट अतिथि रिटायर्ड डीएसपी राकेश सिन्हा उपस्थित थे। इस आयोजन में चम्बल रेंज के लगभग 70 से अधिक अधिकारी व कर्मचारी सम्मलित हुए हैं। मुख्य अतिथि अशोक गोयल ने इस अवसर पर कहा कि समाज के कमजोर वर्गों के प्रति संवेदनशील रवैया रखते हुए उनसे संबंधित शिकायतों का शीघ्रता से निराकरण करें। विवेचक को रिपोर्ट दर्ज करते समय अपने आप को पीडि़त के स्थान पर रखकर रिपोर्ट दर्ज करनी चाहिए और एससी/एसटी तथा महिला संबंधी प्रकरणों की विवेचना में किसी भी प्रकार की लापरवाही न बरती जावे।
दो दिवसीय सेमीनार में उद्घाटन उपरान्त डीआईजी चम्बल रेंज ने महिला एवं बाल अपराध से संबंधित अपराध की विवेचना में रखी जाने वाली सावधानियों एवं कमियों को दूर करने के उपाय’’ विषय में विस्तृत जानकारी उपस्थित अधिकारियों एवं कर्मचारियों को दी। इसी कड़ी में सेमीनार में रिटायर्ड डीएसपी राकेश सिन्हा के द्वारा अपराधों की विवेचना में भौतिक साक्ष्यों का संकलन एवं भौतिक साक्ष्यों का न्यायालयीन कार्यवाही में महत्व’’ विषय पर व्याख्यान दिया। सेमीनार में आदिम जाति कल्याण विभाग मुरैना, सहायक अनुसंधान अधिकारी, श्रीमती उषा पाठक, द्वारा ‘‘ कमजोर वर्गो के सशक्तिकरण हेतु राहत प्रकरणों के त्वरित निराकरण में संवेदशील रवैया एवं आकस्मिकता योजना के तहत गंभीर अपराधों में नये प्रावधान के अनुसार आवंटन’’ विषय पर उपस्थित अधिकारी व कर्मचारियों व्याख्यान दिया। दोपहर बाद सायबर एसपी सुधीर कुमार अग्रवाल ने सेमीनार में ‘‘सायबर अपराध’’ विषय पर अपना व्याख्यान दिया। अनिल मिश्रा अति लोक अभियोजन अधिकारी ग्वालियर द्वारा ‘‘अनुसूचित जाति और जनजाति प्रकरणों में बरती गई असावधानियों के निवारण, जिससे सजा प्रतिशत में बढोत्तरी हो सके’’ विषय पर व्याख्यान दिया गया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

users online