अयोध्या फैसले के बाद अजीन डोभाल ने बुलाई बैठक, हिंदू संगठनों के अलावा मुस्लिम समाज के धर्मगुरू शामिल हुए

नई दिल्ली. अयोध्या विवाद पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल के दिल्ली स्थित आवास पर आज बैठक का आयोजन किया गया इसमें हिंदू संगठनों के अलावा मुस्लिम समाज से जुड़े धर्मगुरू भी शामिल हुए। तकरीबन 2 घंटे चली इस बैठक में देश में शांति व्यवस्था को लेकर चर्चा की गई। ऑल इंडिया मुस्लिम मजलिसे मशावरत के अध्य्क्ष नवेद हामिद, अहले हदीस अल जमात से असगर अली मेंहदी सल्फी, बाबा राम देव, शिया धर्मगुरू कल्बे जव्वाद समेत करीब 25 लोग इस बैठक में शामल थे।
निर्मोही अखाड़े को ट्रस्ट में जगह दी जाएगी
अयोध्या विवाद मामले में 70 सालों तक चली कानूनी लड़ाई और सुप्रीम कोर्ट में 40 दिनों तक लगातार चली सुनवाई के बाद शनिवार को ऐतिहासिक फैसला आ गया। फैसला विवादित जमीन पर रामलला के हक में सुनाया गया। फैसले में कहा गया कि राम मंदिर विवादित स्थल पर बनेगा और मस्जिद निर्माण के लिए अयोध्या में 5 एकड़ जमीन अलग से दी जाएगी। अदालत ने कहा कि विवादित 2.77 एकड़ जीमन केंद्र सरकार के अधीन रहेगी। केंद्र और उत्तर प्रदेश सरकार को मंदिर बनाने के लिए तीन महीने में एक ट्रस्ट बनाने का निर्देश दिया गया है। राजनीतिक रूप से संवेदनशील राम जन्मभूमि-बाबरी मस्जिद विवाद पर सुप्रीम कोर्ट की 5 जजों की संविधान पीठ ने निर्मोही अखाड़ा और शिया वक्फ बोर्ड के दावों को खारिज कर दिया लेकिन साथ ही कहा कि निर्मोही अखाड़े को ट्रस्ट में जगह दी जाएगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

users online