मॉडर्न ब्रेड़, बिन्नी मिल्क रस्क और अनमोल तिल्ली रस्क सहित 5 संस्थानों के नमूने फेल, 12.50 लाख रूपये का अर्थदंड

ग्वालियर. राज्य खाद्य प्रयोगशाला में कराई गई जाँच में खाद्य पदार्थों के नमूने मिथ्या छाप एवं अमानक पाए जाने पर अपर जिला दण्डाधिकारी एवं न्याय निर्णयन अधिकारी संदीप केरकेट्टा ने 5 कारोबारियों पर 12 लाख 50 हजार रूपए का अर्थदण्ड अधिरोपित किया है। उन्होंने खाद्य सुरक्षा एवं मानक अधिनियम और इसके नियमों की विभिन्न धाराओं के तहत यह अर्थदण्ड लगाया है। अपर जिला दण्डाधिकारी न्यायालय द्वारा इस आशय के आदेश जारी किए गए हैं।
अपर जिला दण्डाधिकारी ने बताया कि तत्कालीन खाद्य सुरक्षा अधिकारी अरविंद शर्मा द्वारा फर्म गणेश एजेन्सी से मोर्डन ब्रेड, बिन्नी मिल्क रस्क एवं अनमोल तिल्ली रस्क के नमूने लिए गए थे। इन नमूनों को जाँच के लिये राज्य खाद्य प्रयोगशाला भोपाल भेजा गया। जाँच रिपोर्ट में यह तीनों नमूने मिथ्या छाप स्तर के पाए गए हैं। उन्होंने बताया कि इन खाद्य पदार्थों के विक्रेता प्रभारी प्रो कमलकिशोर जय सिंघानी, मालिक .पूजा जय सिंघानी, इन खाद्य पदार्थों के निर्माता (ब्रेड व अनमोल तिल्ली रस्क के निर्माता)  डायरेक्टर धर्मवीर सिंह भदौरिया (फर्म श्री शक्ति प्रोटीन्स प्रालि इण्डस्ट्रीयल एरिया बानमोर) एवं निर्माता.डायरेक्टर तारा भदौरिया (फर्म श्री शक्ति प्रोटीन्स प्रालि) पर खाद्य सुरक्षा एवं मानक अधिनियम व उसके नियमों के तहत 8 लाख रूपए का अर्थदण्ड अधिरोपित किया गया है।
इसी प्रकार खाद्य सुरक्षा अधिकारी श्रीमती निरूपमा शर्मा ने विकास मावा भण्डार, मोर बाजार का निरीक्षण किया था। शंका होने पर उन्होंने यहाँ से खाद्य पदार्थ (मावा) के नमूने लेकर राज्य खाद्य प्रयोगशाला भोपाल जाँच के लिए भेजे थे। जाँच में यह नमूने अवमानक पाए गए हैं। इस आधार पर खाद्य कारोबारकर्ता मुकेश वर्मा, विकास मावा भण्डार मोर बाजार पर खाद्य सुरक्षा एवं मानक अधिनियम व उसके नियमों के तहत 4 लाख 50 हजार रूपए का अर्थदण्ड अधिरोपित किया गया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

users online