8 अक्टूबर को भारत को पहला राफेल मिलेगा

नई दिल्ली. भारतीय वायुसेना को गुरूवार को फ्रांस में दसॉ के उत्पादन संयंत्र में पहला राफेल विमान सौंपा गया। वायुसेना की टीम का नेतृत्व एयरमार्शल वीआर चौधरी ने किया। उन्होंने राफेल में एक घंटे तक उड़ान भी भरी। भारत और फ्रांस कके बीच 60 हजार करोड़ रूपये के समझौते के अनुसार पहला राफेल भारत को एक्सेप्टेंस मोड में सौंपा जाना था। अगले 7 माह तक इस विमान को फ्रांस में परीक्षणों से गुजरना होगा। आधिकारित तोर पर पहला राफेल 8 अक्टूबर को भारत को सौंपा जायेगा। रक्षा राजनाथसिंह फ्रांस पहुंचकर पहले राफेल को भारतीय वायुसेना में शामिल करेंगे। पहले राफेल विमान के ट्रायल को आरबी -01 का नाम दिया गया है। राफेल समझौते में अहम भूमिका निभाने वाले भारतीय वायुसेना के भावी प्रमुख एयरमार्शल आरबीएस भदौरिया के समान में पहले राफेल विमान के ट्रायल को यह नाम दिया गया।
पाकिस्तान और चीन से होने वाले हवाई हमले रोकने में कारगर
राफेल फायर जेट पाकिस्तान और चीन से होने वाले हवाई हमलों को रोकने और उसे काउंटर करने में काफी मददगार साबित हो सकता है। पड़ोसी देश का लगभग हर इलाका इन विमानों की रेंज में होगा। वायुसेना लम्बे समय से राफेल का इंतजार कर रही हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

users online