उम्मीदवारों की उड़ी नींद-आचार संहिता लागू होते ही उम्मीदवार रात को एसएमएस, व्हाट्सएप और फोन कॉल नहीं कर पायेंगे

नई दिल्ली. चुनाव अचार संहिता लागू होने के बाद से ही उम्मीदवार रात के समय चुनाव प्रचार अभियान थमने पर मतदाताओं को फोन कॉल, व्हाट्सएप और एसएमएस संदेश के माध्यम से वोट मांगने की अपील नहीं कर पायेंगे। निर्वाचन आयोग ने इस संबंध में संशोधित दिशा निर्देश जारी कर भविष्य में होने वाले चुनावों के लिये यह प्रतिबंध लागू कर दिया गया हे। इसके तहत चुनाव आचार संहिता प्रभावशील होने के बाद प्रतिदिन रात 10 बजे से सुबह 6 बजे तक की अवधि को शामिल किया गया है जिसमें चुनाव प्रसार निषेध किया गया है। आयोग के सचिव एनटी भूटिया द्वारा हाल ही में सभी राज्यों और संघ शासित क्षेत्रों मुख्य निर्वाचन अधिकारियों को जारी निर्देश में यह स्पष्टीकरण दिया गया है।
मौजूदा व्यवस्था में उम्मीदवार आचार संहिता लागू होने के बाद दिन में ही संवाद एवं संचार के सभी माध्यमों से प्रचार अभियान चला सकते हैं। प्रचार अभियान संबंधी मौजूदा दिशानिर्देशों के तहत उम्मीदवार रात को 10 बजे से सुबह 6 बजे तक प्रचार थमने की अवधि में लाउडस्पीकर या सभायें आयोजित कर प्रचार नहीं कर सकते हैं।
हालांकि इस अवधि में उम्मीदवार घर घर जाकर या फोन कॉल एवं एसएमएस आदि को प्रचार का माध्यम बना लेते थे। आयोग ने प्रतिबंध का दायरा बढाते हुये इसमें फोन कॉल, एसएमएस और व्हाट्सएप संदेश एवं घर घर जाकर वोट मांगने को भी शामिल कर दिया है। आयोग ने इसके पीछे नागरिकों की निजता का सम्मान करने और सामान्य जनजीवन में अशांति या व्यवधान को रोकने को मुख्य वजह बताया है। आयोग ने सुप्रीम कोर्ट के एक फैसले के हवाले से इस साल 20 अप्रैल को जारी निर्देश में संशोधन करते हुये यह व्यवस्था लागू की है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

users online