बैंक अपने ग्राहकों को इंटरनेट बैंकिंग धोखाधड़ी से बचाये-आईजी राजाबाबू

ग्वालियर. पुलिस कन्ट्रोल के सभागार में ग्वालियर रेंज के आईजी राजाबाबू सिंह द्वारा इंटरनेट बैंकिंग धोखाधड़ी और एटीएम क्लोनिंग के मामलों पर बैंक अधिकारियों से रोकने के लिये कहा और बचाव के उपाय करने के लिये पुलिस आपके साथ हैं। आईओ के लिये इंटरनेट बैंकिंग धोखाधड़ी की जांच थोड़ी मुश्किल क्यों
आईओ के लिये इंटरनेट बैंकिंग के मामलों की जांच थोड़ी मुश्किल है लेकिन असंभव नहीं है। यह हाईटेक अपराध है। यह अपराध अंर्तराष्ट्रीय अपराध की तर्ज पर किये जा रहे हैं। ऐसे अपराधों को पुलिस और बैंक अधिकारी संयुक्त रूप से मिलकर सुलझा सकते हैं। पीडि़तों के पैसे को धोखाधड़ी करके बैंक खातों से चुराया गया है। इनकी सुरक्षा करना हमारा कर्त्तव्य हैं।
एटीएम पर सीसीटीवी बेहतर हो
एटीएम पर सीसीटीवी बेहतर क्वालिटी के हो
आईजी राजाबाबू ने बैंक अधिकारियों से कहा है कि एटीएम लगे सीसीटीवी बेहतर क्वालिटी के हो, हमेशा चालू रहें समय समय पर इनकी मॉनीटरिंग होना चाहिये। बैंकिंग समूहों को ऐसी सूचनाओं के प्रसार के लिये पुलिस के साथ बातचीत करने के लियिे या तो ऑनलाईन प्लेटफॉर्म तैयार करना चाहिये। इसके लिये नोडल अधिकारी की नियुक्ति की जानी चाहिये जो बैंकिंग धोखाधड़ी पर नजर रख सकें।
सायबर सेल बनाना चाहिये
पुलिस विभाग के साथ समन्वय करके क्षेत्रीय स्तर पर बैंक को तकनीकी और सायबर सेल बनाना चाहिये। जिसमें ऐसे मामलों की रोकथाम के उपाय किये जाये। प्रत्येक बैंक की शाखा को एक सुरक्षा स्विच स्थापित करना चाहिये, जिस पर अलर्ट एसएमएस हाई बैंक कार्यालय, पुलिस कन्ट्रोल रूम, नजदीकी पुलिस थाने आदि को भेजे जाने चाहिये। हमने सभी बैंक अधिकारियों को प्रतिभागियों को एक पम्पलेट भी वितरित किये हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

users online