पोर्टेबल एंटी टैंक गाइडेड मिसाइल का सफल परीक्षण

नई दिल्ली. रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन (डीआरडीओ) ने बुधवार को आंध्र प्रदेश के कुरनूल में मैन पोर्टेबल एंटी टैंक गाइडेड मिसाइल (एमपीएटीजीएम) का सफल परीक्षण किया है। अपने इस तीसरे परीक्षण में यह मिसाइल सफल साबित हुआ है। सेना थर्ड जेनरेशन की एंटी-टैंक गाइडेड मिसाइल की डिमांड कर रही थी इसी को देखते हुए इसे तैयार किया गया है। परीक्षण के दौरान मिसाइल को एक ट्राइपॉड से फायर किया गया और इसके निशाने पर एक टैंक था। मिसाइल ने टॉप अटैक मोड में लक्ष्य को निशाना बनाया और पूरी तरह से नष्ट कर दिया।
मिसाइल कई उन्नत सुविधाओं से लैस
डीआरडीओ की ओर से तैयार किया गया यह स्वदेशी पोर्टेबल एंटी गाइडेड मिसाइल कई उन्नत सुविधाओं से लैस है। यह करीब 2.50 किमी दूर अपने निशाने को तहस-नहस करने में सक्षम है। डीआरडीओ ने जानकारी दी है कि यह मिसाइल अचूक निशाना साधती है और दुश्मन के टैंक का पीछा करते हुए उसे तबाह कर देती है। यह मिसाइल वजन में इतनी हल्की है कि इसे इधर उधर आसानी से ले जाकर उपयोग में ले सकते हैं।
दिन-रात दोनों समय दुश्मन पर वार कर सकती है
इस मिसाइल को किसी ऊंची पहाड़ी पर या दूसरी किसी जगह पर आसानी से ले जाया सकता है। इसकी खासियत है कि यह दिन और रात दोनों समय दुश्मन पर वार कर सकती है। उम्मीद की जा रही है कि 2021 तक इस मिसाइल का बड़े पैमाने पर निर्माण किया जाएगा। ऐसा माना जा रहा है कि आमने सामने की लड़ाई में मैन पोर्टेबल एंटी टैंक गाइडेड मिसाइल (एमपीएटीजीएम) काफी कारगर साबित हो सकता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

users online