तलवारों के बीच ताजिये पहुंचे विसर्जन के लिये और देखती रही पुलिस

ग्वालियर. शहरों के चारों ओर से तलवारों के बीच ताजिये विसर्जन के लिये सागरताल पहुंचे यह सारा नजारा जिला प्रशासन के अधिकारी देख रहे थे। हजीरा, किलागेट से होते हुए सागरताल, सिकंदर कंपू, ईदगाह, शहर के हृदयस्थल महाराज बाड़े और शिंदें की छावनी से होते हुए सागरताल पर विसर्जन के लिये ताजिये पहुंचे। शांति समिति की बैठक में जिला प्रशासन और सदस्यों के बीच बैठक में तय होने के बाद ताजिये के जुलूस में तलवारें नहीं लहराई जायेगी पूरी तरह से प्रतिबंधित रहेगी। जिला प्रशासन और पुलिस के बीच में तय होने के बाद भी मातमी जुलूस में जमकर तलवारें लहराते हुए जिला प्रशासन को धता बताते रहें और बेबस पुलिस हाथ पर हाथ धरे बैठी रहीं।
शहर की चारों दिशाओं से सागरताल पर ताजिये विसर्जन के लिये रात 8 बजे पहुंचते रहें। ताजियेों जुलूस के पीछे जाम में फंसी रही गाडि़यां, घंटों यातायात जाम रहा है। जिससे मरीजों को लेकर जा रही एम्बूलेंस कई जगह फंसी देखी गयी है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

users online