ट्रेनें हो रही हैं कितनी लेट, अब चलेगा सही पता

नई दिल्ली : भारतीय ट्रेनों में सफर करने वाले यात्रियों को अक्सर ट्रेनों की लेटलतीफी की समस्या के कारण परेशान होना पड़ता है. ट्रेनों में सफर करने वाले यात्री अक्सर कहते हैं कि ट्रेन का रियल टाइम और वह कब किस स्टेशन पर पहुंचेगी इसकी स्टीक जानकारी उन्हें नहीं मिलती है. यात्रियों की इन्हीं समस्याओं का निवारण करने के लिए भारतीय रेलवे प्रशासन ने नया तरीका खोज निकाला है.

रेलवे अपने सिस्टम को ट्रेन के रवाना होने और आगमन पर दिए जाने वाले सिग्नल से जोड़ चुका है, ताकि पैसेंजर्स को ट्रेन की रियल लोकेशन की जानकारी मिल सके, इसके लिए रेलवे प्रशासन द्वारा डेटा लॉगर का इस्तेमाल शुरू कर दिया है.

अभी तक मैन्युल आधार पर होती है टाइमिंग सेट
रेलवे की मानें तो अभी तक सभी ट्रेनों की जानकारी मैन्युल आधार पर मिलती है, ट्रेन जिस स्टेशन पर पहुंचती है वहां का स्टेशन का अधिकारी उसका टाईमिंग सिस्टम में फीड करता है और कितने घंटे ट्रेन लेट चल रही है या कितने घंटे लेट पहुंचेगी इसकी जानकारी भी सिस्टम में रेलवे का कर्मचारी मैन्युल ही फीड करता है. लेकिन रेल मंत्रालय जब ट्रेनों का वक्त जानने के लिए नए डिजिटल सिस्टम डाटा लॉगर का प्रयोग शुरू किया तो असल तस्वीर सामने आनी शुरू हुई. ये सामने आया कि जो डेटा पहले मिल रहा था जो अब मिल रहा है उसमे बड़ा अंतर है.

 

zeenews.india.com

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

users online